पिता बनने पर पुरुषों को सताते है ये डर

जैसे हर महिला को माँ बनने के पहले कुछ भ्रम और डर होते है, उसी तरह एक संभावित को भी कही डर सताते है. हर संभावित को यह डर रहता है कि पिता बनने के बाद की सारी जिम्मेदारी से निपटने के लिए अपने आप को वह कैसे तैयार करेंगे. पिता अपने दिल की बात किसी से साझा नहीं करते, किंतु हर पिता को कुछ बातें दिल ही दिल में सताती है.

पहला डर तो यह कि वह बच्चे को ठीक तरह से पकड़ पाएगा या नहीं. उसके डाइप कैसे बदलने होंगे, इस तरह की छोटी-छोटी चीजें संभावित पिता को सताती है. काम और परिवार के बीच सामंजस बिठा पाना एक पिता के लिए महत्वपूर्ण चुनौती होती है. उन्हें इस बात की भी चिंता सताती है कि परिवार की जिम्मेदारियों, बच्चें के चलते वह अपना काम लगन और मेहनत से कर पाएगे की नहीं.

बच्चें के कारण पत्नी आप पर ध्यान न दे, उनकी प्राथमिकता बदल जाए. थका होने के कारण वह अंतरंग पल न बिता पाए. बच्चे के जन्म के बाद सामाजिक जीवन पर गलत असर पड़ेगा. दोस्त, अहबाब उनसे दूर हो जाएगें. संभावित पिता को अपनी पत्नी और बच्चे के स्वास्थ्य का भी डर लगा रहता है. वित्तीय समस्या भी उन्हें परेशान करती है.

ये भी पढ़े 

डेट के लिए पूछने में डर लगता हैं तो फॉलो करे ये टिप्स

बच्चों की टीवी देखने की आदत को ऐसे सुधारें

यदि ऑफिस में हो आपसे जलने वाला सहकर्मी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -