रोजाना की ये बुरी आदतें आपकी किडनी को पहुंचा सकती हैं नुकसान

रोजाना की ये बुरी आदतें आपकी किडनी को पहुंचा सकती हैं नुकसान
Share:

ब बात आपके स्वास्थ्य की आती है, तो कुछ दैनिक आदतें चुपके से आपके गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकती हैं, और आपको इसका एहसास भी नहीं होता। आपके गुर्दे आपके रक्त से अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को छानने, द्रव संतुलन बनाए रखने और रक्तचाप को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालाँकि, कुछ जीवनशैली विकल्प और आदतें इन महत्वपूर्ण अंगों पर अनावश्यक तनाव डाल सकती हैं, जिससे समय के साथ गुर्दे को नुकसान हो सकता है। यहाँ कुछ सामान्य बुरी आदतों पर करीब से नज़र डाली गई है जो आपके गुर्दे को नुकसान पहुँचा सकती हैं।

अधिक नमक का सेवन: मूक अपराधी

नमक का अत्यधिक सेवन आपके रक्तचाप को काफी हद तक बढ़ा सकता है, जिससे आपके गुर्दे की नाजुक रक्त वाहिकाओं पर दबाव पड़ता है। समय के साथ, यह उनकी ठीक से काम करने की क्षमता को ख़राब कर सकता है और गुर्दे की बीमारी का जोखिम बढ़ा सकता है।

निर्जलीकरण: पर्याप्त पानी नहीं

गुर्दे का एक मुख्य कार्य रक्त से अपशिष्ट उत्पादों को छानकर मूत्र बनाना है। जब आप पर्याप्त पानी नहीं पीते हैं, तो मूत्र उत्पादन कम हो जाता है, और अपशिष्ट उत्पाद आपके गुर्दे में जमा हो सकते हैं, जिससे संभावित रूप से गुर्दे की पथरी या अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

पेशाब करने की इच्छा को नज़रअंदाज़ करना

लंबे समय तक पेशाब को रोके रखने से किडनी पर दबाव बढ़ सकता है और मूत्र मार्ग में संक्रमण (यूटीआई) या किडनी में पथरी हो सकती है। अपने शरीर के संकेतों को सुनना और अपने मूत्राशय को नियमित रूप से खाली करना ज़रूरी है।

दर्दनिवारक दवाओं का अधिक प्रयोग

इबुप्रोफेन और एस्पिरिन जैसी सामान्य दर्द निवारक दवाएं, जब बार-बार और बड़ी खुराक में ली जाती हैं, तो गुर्दे के ऊतकों को नुकसान पहुंचा सकती हैं और समय के साथ तीव्र गुर्दे की चोट या क्रोनिक किडनी रोग का कारण बन सकती हैं।

गलत खान-पान की आदतें: बहुत अधिक प्रोटीन

जबकि प्रोटीन मांसपेशियों की वृद्धि और मरम्मत के लिए आवश्यक है, अत्यधिक सेवन गुर्दे पर दबाव डाल सकता है, खासकर यदि आपको पहले से ही गुर्दे की बीमारी है। संतुलित आहार बनाए रखना और यदि आपको कोई चिंता है तो अपने प्रोटीन सेवन के बारे में स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

धूम्रपान और किडनी स्वास्थ्य

धूम्रपान न केवल आपके फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है बल्कि आपके गुर्दे को भी नुकसान पहुंचाता है। यह गुर्दे की बीमारी वाले लोगों में गुर्दे की कार्यक्षमता में गिरावट को बढ़ाता है और गुर्दे के कैंसर के विकास के जोखिम को 50% तक बढ़ा देता है।

अत्यधिक शराब का सेवन

शराब एक विष है जिसे आपके गुर्दे को आपके रक्तप्रवाह से फ़िल्टर करना होता है। बहुत ज़्यादा शराब पीने से गुर्दे की कार्यक्षमता ख़राब हो सकती है और गुर्दे की बीमारी का ख़तरा बढ़ सकता है।

व्यायाम की कमी: गतिहीन जीवनशैली

नियमित शारीरिक गतिविधि स्वस्थ रक्त परिसंचरण और हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है, जो किडनी के कामकाज को बनाए रखने के लिए आवश्यक है। एक गतिहीन जीवनशैली मोटापे और उच्च रक्तचाप में योगदान देती है, जिससे किडनी रोग का खतरा बढ़ जाता है।

खराब तरीके से प्रबंधित मधुमेह

मधुमेह गुर्दे की बीमारी का एक प्रमुख कारण है। समय के साथ उच्च रक्त शर्करा का स्तर गुर्दे की फ़िल्टरिंग इकाइयों को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे मधुमेह नेफ्रोपैथी हो सकती है। गुर्दे की जटिलताओं को रोकने के लिए मधुमेह का उचित प्रबंधन महत्वपूर्ण है।

उच्च रक्तचाप

अनियंत्रित उच्च रक्तचाप गुर्दे में रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे वे रक्त से अपशिष्ट को प्रभावी ढंग से फ़िल्टर करने में कम सक्षम हो जाते हैं। गुर्दे के स्वास्थ्य के लिए रक्तचाप के स्तर की निगरानी और प्रबंधन आवश्यक है।

नींद की कमी और किडनी का स्वास्थ्य

खराब नींद की गुणवत्ता और अपर्याप्त नींद को क्रोनिक किडनी रोग के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है। पर्याप्त आराम आपके शरीर को मरम्मत और कायाकल्प करने की अनुमति देता है, जिससे समग्र किडनी फ़ंक्शन का समर्थन होता है।

अत्यधिक कैफीन का सेवन

हालांकि मध्यम मात्रा में कैफीन का सेवन आमतौर पर अधिकांश लोगों के लिए सुरक्षित है, लेकिन अत्यधिक सेवन से निर्जलीकरण हो सकता है और रक्तचाप बढ़ सकता है, जिससे गुर्दे की कार्यप्रणाली पर असर पड़ सकता है।

नियमित जांच की अनदेखी

नियमित स्वास्थ्य जांच और स्क्रीनिंग से किडनी रोग या अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के शुरुआती लक्षणों का पता लगाने में मदद मिल सकती है। समय पर पता लगाने से जटिलताओं को रोकने के लिए समय पर हस्तक्षेप और प्रबंधन संभव हो जाता है।

यूटीआई को नज़रअंदाज़ करना

मूत्र मार्ग संक्रमण (यूटीआई) का इलाज न किए जाने पर यह किडनी तक फैल सकता है और गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है। अगर आपको यूटीआई होने का संदेह है तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना ज़रूरी है।

अपने गुर्दे की देखभाल करने के लिए स्वस्थ जीवनशैली की आदतें अपनाना और ऐसे व्यवहारों से बचना शामिल है जो इन महत्वपूर्ण अंगों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। अपनी दैनिक आदतों के प्रति सचेत रहकर और सक्रिय विकल्प चुनकर, आप गुर्दे के स्वास्थ्य और समग्र कल्याण का समर्थन कर सकते हैं।

पिता ने नहीं दिया प्रॉपर्टी में हिस्सा तो बेटे ने किया ऐसा काम, देखकर लोगों के उड़े होश

इंटरनेट पर छाया Dolly चाय वाले का ये अनोखा VIDEO

'किसी ने उतारे कपड़े, तो कोई गिर गया नीचे', फ्लाइट में दिखा ऐसा मंजर, वीडियो देखकर उड़ जाएंगे होश

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -