सन पॉइजनिंग से त्वचा को हो सकते हैं ये 5 नुकसान, जानें इससे बचाव के उपाय

सन पॉइजनिंग से त्वचा को हो सकते हैं ये 5 नुकसान, जानें इससे बचाव के उपाय
Share:

सन पॉइजनिंग, जिसे गंभीर सनबर्न के रूप में भी जाना जाता है, सूरज की यूवी किरणों के प्रति एक तीव्र प्रतिक्रिया है। यह सिर्फ़ एक सामान्य सनबर्न से कहीं ज़्यादा है; इससे त्वचा को गंभीर नुकसान और अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

सूर्य विषाक्तता के लक्षण

  • गंभीर लालिमा और सूजन: आपकी त्वचा अत्यधिक लाल और सूजी हुई हो सकती है।
  • छाले: दर्दनाक छाले बन सकते हैं, जो बाद में छिल सकते हैं।
  • बुखार और ठंड लगना: आपको फ्लू जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं।
  • सिरदर्द और चक्कर आना: ये लक्षण गंभीर सनबर्न के साथ हो सकते हैं।
  • मतली और उल्टी: सूर्य की रोशनी से विषाक्तता के कारण पेट खराब हो सकता है।

सूर्य की किरणों से त्वचा को होने वाले 5 नुकसान

1. गंभीर जलन

गंभीर जलन सूर्य की किरणों से होने वाली सबसे तात्कालिक और दर्दनाक क्षति है। त्वचा बहुत लाल, सूजी हुई और फफोलेदार हो सकती है, जिससे अत्यधिक असुविधा हो सकती है।

गंभीर जलन से कैसे बचें

  • सनस्क्रीन का प्रयोग करें: कम से कम एसपीएफ 30 वाला ब्रॉड-स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन लगाएं।
  • सुरक्षात्मक कपड़े पहनें: लंबी आस्तीन वाले कपड़े, टोपी और धूप का चश्मा पहनें।
  • छाया में रहें: सीधे सूर्य के संपर्क में आने से बचें, विशेष रूप से सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच

2. समय से पहले बुढ़ापा

लंबे समय तक सूर्य के संपर्क में रहने से त्वचा की उम्र बढ़ने की प्रक्रिया तेज हो सकती है, जिससे झुर्रियां, महीन रेखाएं और उम्र के धब्बे हो सकते हैं।

समय से पहले बुढ़ापा कैसे रोकें

  • सनस्क्रीन का नियमित उपयोग: इसे अपनी दैनिक आदत बना लें, बादल वाले दिनों में भी।
  • हाइड्रेशन: अपनी त्वचा को मॉइस्चराइज़र से हाइड्रेटेड रखें।
  • एंटीऑक्सीडेंट: अपनी त्वचा की सुरक्षा के लिए एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर त्वचा देखभाल उत्पादों का उपयोग करें।

3. हाइपरपिग्मेंटेशन

सूर्य की किरणों से त्वचा की रंगत असमान हो सकती है और काले धब्बे पड़ सकते हैं, जिसे हाइपरपिग्मेंटेशन कहते हैं। ऐसा यूवी किरणों से होने वाले नुकसान के कारण मेलेनिन के अत्यधिक उत्पादन के कारण होता है।

हाइपरपिग्मेंटेशन को कैसे रोकें

  • सूर्य से सुरक्षा: अपनी त्वचा को हमेशा सूर्य से बचाएं।
  • त्वचा को गोरा करने वाले एजेंट: विटामिन सी या नियासिनमाइड जैसे तत्वों वाले उत्पादों का उपयोग करें।
  • सूर्य की चरम तीव्रता के समय से बचें: सूर्य की चरम तीव्रता के समय घर के अंदर रहें।

4. त्वचा संक्रमण

यदि उचित देखभाल न की जाए तो गंभीर धूप से झुलसने के कारण होने वाले छाले और खुले घाव संक्रमित हो सकते हैं, जिससे आगे चलकर जटिलताएं पैदा हो सकती हैं।

त्वचा संक्रमण को कैसे रोकें

  • घाव की उचित देखभाल: किसी भी छाले या घाव को साफ करें और ढक दें।
  • सामयिक एंटीबायोटिक्स: संक्रमण को रोकने के लिए एंटीबायोटिक मलहम लगाएं।
  • डॉक्टर से परामर्श करें: यदि आपको संक्रमण के लक्षण दिखाई दें तो चिकित्सकीय सलाह लें।

5. त्वचा कैंसर

लंबे समय तक और बार-बार सूर्य के संपर्क में रहने से त्वचा कैंसर का खतरा बढ़ जाता है, जिसमें मेलेनोमा भी शामिल है, जो इसका सबसे गंभीर रूप है।

त्वचा कैंसर को कैसे रोकें

  • नियमित त्वचा जांच: किसी भी नए या असामान्य धब्बे के लिए नियमित रूप से अपनी त्वचा की जांच करें।
  • त्वचा विशेषज्ञ से मुलाकात: त्वचा विशेषज्ञ से वार्षिक जांच करवाएं।
  • सूर्य सुरक्षा अभ्यास: सूर्य से सुरक्षा उपायों का निरंतर पालन करें।

सूर्य विषाक्तता को रोकने के प्रभावी तरीके

दैनिक सूर्य संरक्षण दिनचर्या

अपनी दैनिक त्वचा देखभाल दिनचर्या में सूर्य की रोशनी से बचाव को शामिल करें। यह आपके दांतों को ब्रश करने की तरह ही आदत होनी चाहिए।

सही सनस्क्रीन का चयन

सभी सनस्क्रीन एक जैसे नहीं होते। SPF 30 या उससे ज़्यादा वाले ब्रॉड-स्पेक्ट्रम प्रोटेक्शन वाले सनस्क्रीन चुनें। अगर आप तैराकी कर रहे हैं या पसीना बहा रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि यह पानी प्रतिरोधी हो।

सनस्क्रीन का उचित उपयोग

बाहर जाने से 15 मिनट पहले सनस्क्रीन अच्छी तरह से लगाएँ। कान, गर्दन और पैरों जैसे अक्सर छूट जाने वाले स्थानों को न भूलें। हर दो घंटे में दोबारा लगाएँ, या तैराकी या पसीना आने पर ज़्यादा बार लगाएँ।

सुरक्षात्मक वस्त्र और सहायक उपकरण

  • टोपी और धूप का चश्मा: चौड़े किनारे वाली टोपी और UV अवरोधक धूप का चश्मा पहनें।
  • यू.पी.एफ. वस्त्र: अल्ट्रावायलेट प्रोटेक्शन फैक्टर (यू.पी.एफ.) वाले वस्त्रों पर विचार करें।

सूर्य के चरम घंटों से बचना

सूर्य की किरणें सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच सबसे अधिक प्रबल होती हैं। बाहरी गतिविधियों को सुबह जल्दी या दोपहर बाद करने का प्रयास करें।

छाया में रहना

जब भी संभव हो छाया में रहें। सीधे सूर्य के संपर्क से बचने के लिए छाते, छतरियां या पेड़ों का उपयोग करें।

हाइड्रेटेड रहना

अपनी त्वचा को अंदर से बाहर तक हाइड्रेटेड रखने के लिए खूब सारा पानी पिएँ। निर्जलीकरण आपकी त्वचा को सूरज की किरणों से होने वाले नुकसान के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकता है।

त्वचा के लिए स्वस्थ आहार खाना

एंटीऑक्सीडेंट और ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं। ये आपकी त्वचा को अंदर से सुरक्षित रखने और उपचार को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।

सूर्य विषाक्तता का उपचार

सूर्य विषाक्तता के लिए तत्काल देखभाल

  • धूप से बाहर निकलें: घर के अंदर या छायादार स्थान पर जाएं।
  • त्वचा को ठंडा रखें: ठंडे (ठंडे नहीं) शॉवर या स्नान लें।
  • हाइड्रेटेड रहें: निर्जलीकरण को रोकने के लिए खूब पानी पिएं।

सनबर्न के लिए सुखदायक उपचार

  • एलोवेरा: त्वचा को आराम देने और स्वस्थ बनाने के लिए एलोवेरा जेल लगाएं।
  • मॉइस्चराइज़र: त्वचा के छिलने को रोकने के लिए सौम्य, सुगंध रहित मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें।
  • दर्द निवारक: दर्द से राहत पाने और सूजन कम करने के लिए इबुप्रोफेन या एसिटामिनोफेन लें।

चिकित्सा सहायता कब लें

यदि आपको बड़े छाले, तेज बुखार, अत्यधिक दर्द या संक्रमण के लक्षण जैसे गंभीर लक्षण महसूस हों, तो तुरंत चिकित्सा सहायता लें।

सूर्य से सुरक्षा के बारे में मिथक और गलत धारणाएँ

टैनिंग बेड सुरक्षित हैं

टैनिंग बेड धूप सेंकने का सुरक्षित विकल्प नहीं हैं। वे UV विकिरण उत्सर्जित करते हैं जो त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं और कैंसर का खतरा बढ़ा सकते हैं।

बादल वाले दिनों में आपको सनस्क्रीन की ज़रूरत नहीं है

80% तक UV किरणें बादलों को भेद सकती हैं, इसलिए आपको बादलों से घिरे दिनों में भी सुरक्षा की आवश्यकता होती है।

गहरे रंग की त्वचा को सनस्क्रीन की ज़रूरत नहीं होती

जबकि गहरे रंग की त्वचा में मेलेनिन अधिक होता है, यह सूर्य की किरणों से होने वाले नुकसान से सुरक्षित नहीं है। सनस्क्रीन सभी प्रकार की त्वचा के लिए आवश्यक है।

सनस्क्रीन से विटामिन डी की कमी होती है

संतुलित आहार और सुरक्षित धूप में रहने से आप पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी प्राप्त कर सकते हैं। विटामिन डी की खातिर सनस्क्रीन लगाना न भूलें।

सूर्य से क्षतिग्रस्त त्वचा की दीर्घकालिक देखभाल

सनस्क्रीन का लगातार उपयोग

आगे की क्षति को रोकने के लिए सनस्क्रीन को अपनी त्वचा देखभाल दिनचर्या का अनिवार्य हिस्सा बना लें।

मरम्मतात्मक त्वचा देखभाल उत्पाद

सूर्य की क्षति की मरम्मत और कोलेजन उत्पादन को बढ़ाने के लिए रेटिनोइड्स और पेप्टाइड्स जैसे तत्वों वाले उत्पादों का उपयोग करें।

त्वचा विशेषज्ञ के नियमित दौरे

त्वचा विशेषज्ञ से नियमित जांच करवाने से त्वचा को होने वाले नुकसान या कैंसर के किसी भी शुरुआती लक्षण का पता लगाने में मदद मिल सकती है। सूर्य की किरणों से होने वाली विषाक्तता आपकी त्वचा को बहुत ज़्यादा और लंबे समय तक नुकसान पहुंचा सकती है, लेकिन उचित रोकथाम और देखभाल से आप खुद को सुरक्षित रख सकते हैं। हमेशा सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें, सुरक्षात्मक कपड़े पहनें और धूप में निकलने से सावधान रहें। जटिलताओं से बचने के लिए सूर्य की किरणों से होने वाली विषाक्तता के किसी भी लक्षण का तुरंत इलाज करें। इन आदतों को अपनाकर आप सुरक्षित रूप से धूप का आनंद ले सकते हैं और अपनी त्वचा को स्वस्थ रख सकते हैं।

पेरेंटिंग टिप्स: मां-बेटी का रिश्ता कैसा होना चाहिए?

अधिक उम्र वाली महिलाओं को माँ बनने पर होती है ज्यादा समस्या, जानिए सही एज

वजन घटाने की दवाएं न सिर्फ वजन घटाती हैं बल्कि दिल की सेहत के लिए भी खतरा पैदा करती हैं, जानिए क्या कहती है रिसर्च

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -