प्रेग्नेंसी और डिलीवरी में नहीं आएगी कठिनाई, महिलाओं को करना चाहिए ये योगासन

प्रेग्नेंसी और डिलीवरी में नहीं आएगी कठिनाई, महिलाओं को करना चाहिए ये योगासन
Share:

गर्भावस्था महिलाओं के लिए शारीरिक और भावनात्मक दोनों तरह से एक परिवर्तनकारी यात्रा है। इस अवधि के दौरान योग का अभ्यास करने से महिलाओं को कई लाभ मिल सकते हैं, जिससे उन्हें स्वस्थ, शांत और प्रसव के लिए तैयार रहने में मदद मिलती है। यहाँ बताया गया है कि योग क्यों फायदेमंद है और कुछ खास आसन जो विशेष रूप से मददगार हो सकते हैं।

गर्भावस्था के दौरान योग क्यों फायदेमंद है?

गर्भावस्था के दौरान कई कारणों से योग की अत्यधिक अनुशंसा की जाती है:

1. शारीरिक लाभ

  • लचीलापन बढ़ाता है: योगासन शरीर में होने वाले परिवर्तनों के अनुसार लचीलापन बनाए रखने में मदद करते हैं।
  • मांसपेशियों को मजबूत बनाता है: यह विशेष रूप से अतिरिक्त वजन को सहन करने और मुद्रा में परिवर्तन के लिए महत्वपूर्ण है।
  • बेहतर परिसंचरण को बढ़ावा देता है: रक्त प्रवाह को बढ़ाता है, जो माँ और बच्चे दोनों के लिए महत्वपूर्ण है।
  • तनाव से राहत: पीठ दर्द और सिरदर्द जैसी सामान्य गर्भावस्था संबंधी परेशानियों को कम करता है।

2. मानसिक और भावनात्मक लाभ

  • तनाव कम करता है: विश्राम को प्रोत्साहित करता है और चिंता को कम करता है।
  • नींद की गुणवत्ता में सुधार: अनिद्रा से लड़ने में मदद करता है और बेहतर नींद को बढ़ावा देता है।
  • शिशु के साथ संपर्क: ध्यान और श्वास अभ्यास के माध्यम से।

3. प्रसव की तैयारी

  • सहनशक्ति बढ़ाता है: प्रसव और डिलीवरी के लिए सहनशक्ति बनाता है।
  • माइंडफुलनेस को प्रोत्साहित करता है: वर्तमान और केंद्रित रहने की तकनीक सिखाता है।
  • नियंत्रित श्वास को बढ़ावा देता है: संकुचन और प्रसव के दौरान महत्वपूर्ण।

गर्भवती महिलाओं के लिए अनुशंसित योग आसन

1. बिल्ली-गाय मुद्रा (मार्जरीआसन-बिटिलासन)

  • लाभ: रीढ़ की हड्डी के लचीलेपन में सुधार होता है और पीठ के निचले हिस्से में तनाव से राहत मिलती है।
  • कैसे करें: चारों पैरों पर खड़े होकर शुरू करें, अपनी पीठ को बारी-बारी से मोड़ें और गोल करें, अपनी सांस के साथ समन्वय करते हुए।

2. बालासन

  • लाभ: पीठ और कंधों को आराम मिलता है, गहरी सांस लेने को बढ़ावा मिलता है।
  • कैसे करें: फर्श पर घुटने टेकें, अपने पैर के अंगूठे को एक साथ स्पर्श कराएं, अपनी एड़ियों पर बैठें, और अपने धड़ को अपनी जांघों के बीच में रखें।

3. योद्धा द्वितीय मुद्रा (वीरभद्रासन द्वितीय)

  • लाभ: पैरों को मजबूत बनाता है और कूल्हों को खोलता है, सहनशक्ति और संतुलन को बढ़ाता है।
  • कैसे करें: पैरों को चौड़ा करके खड़े हो जाएं, एक पैर को बाहर की ओर मोड़ें, अपने सामने वाले घुटने को मोड़ें, हाथों को फर्श के समानांतर फैलाएं।

4. तितली आसन (बद्ध कोणासन)

  • लाभ: कूल्हों को खोलता है, कमर और जांघों के लचीलेपन में सुधार करता है।
  • कैसे करें: पैरों के तलवों को एक साथ रखकर बैठें, पंजों को पकड़ें, घुटनों को धीरे से ऊपर-नीचे करें।

2. संशोधित पार्श्व कोण आसन (पार्श्वकोणासन)

  • लाभ: पैरों को मजबूत बनाता है और शरीर के पार्श्व भाग को खींचता है।
  • कैसे करें: योद्धा II से, कोहनी को घुटने पर रखते हुए आगे झुकें और हाथ को ऊपर तक ले जाएं।

3. पेल्विक झुकाव

  • लाभ: पेट की मांसपेशियों को मजबूत करता है और मुद्रा में सुधार करता है।
  • कैसे करें: घुटनों को मोड़कर पीठ के बल लेट जाएं, अपने श्रोणि को नाभि की ओर झुकाएं।

4. पश्चिमोत्तानासन (बैठकर आगे की ओर झुकना)

  • लाभ: रीढ़ की हड्डी, हैमस्ट्रिंग और पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियों में खिंचाव होता है।
  • कैसे करें: पैरों को फैलाकर बैठें, कूल्हों पर झुकें, पंजों तक पहुंचें।

2. खड़े होकर पर्वत आसन (ताड़ासन)

  • लाभ: आसन में सुधार होता है और जमीन से जुड़ाव को बढ़ावा मिलता है।
  • कैसे करें: सीधे खड़े हो जाएं, पैरों को एक साथ या कूल्हों की चौड़ाई के बराबर दूरी पर रखें, हाथों को बगल में आराम से रखें।

3. सपोर्टेड ब्रिज पोज़ (सेतु बंधासन)

  • लाभ: पीठ, नितंब और पैल्विक मांसपेशियों को मजबूत करता है।
  • कैसे करें: पीठ के बल लेट जाएं, घुटनों को मोड़ें, कूल्हों को उठाएं और पैरों तथा बाजुओं को चटाई पर दबाएं।

4. शवासन (शवासन)

  • लाभ: गहन विश्राम को बढ़ावा देता है और तनाव को कम करता है।
  • कैसे करें: पीठ के बल लेट जाएं, हाथों को बगल में रखें, हथेलियां ऊपर की ओर रखें, आंखें बंद करें और गहरी सांस लें।

2. सुरक्षा और संशोधन का महत्व

गर्भावस्था के दौरान, सुरक्षा को प्राथमिकता देना और अपने शरीर की बात सुनना बहुत ज़रूरी है। यहाँ कुछ सुझाव दिए गए हैं:

3. अपने चिकित्सक से परामर्श करें: कोई भी नया व्यायाम शुरू करने से पहले, विशेषकर गर्भावस्था के दौरान।

4. अत्यधिक परिश्रम से बचें: आवश्यकतानुसार आसन बदलें, ऐसी मुद्राओं से बचें जो पेट पर दबाव डालती हों या असुविधा पैदा करती हों।

5. हाइड्रेटेड रहें: योग अभ्यास से पहले, दौरान और बाद में खूब पानी पिएं।

6. सहारे का प्रयोग करें: ब्लॉक और बोल्स्टर जैसे सहारे आपके अभ्यास में सहायता कर सकते हैं और आपके बढ़ते पेट को सहारा दे सकते हैं।

गर्भावस्था एक विशेष समय है जिसे नियमित योग अभ्यास से बढ़ाया जा सकता है। कोमल स्ट्रेच, ध्यानपूर्वक सांस लेने और विश्राम पर ध्यान केंद्रित करके, गर्भवती माताएँ योग के शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक लाभों का लाभ उठा सकती हैं। हमेशा अपने शरीर की बात सुनना याद रखें, आवश्यकतानुसार आसन बदलें और इस परिवर्तनकारी यात्रा का आनंद लें।

इन राशियों के लोग आज घर के कामों में व्यस्त रहेंगे, जानिए अपना राशिफल

इस राशि के लोगों को आज आर्थिक मामलों में जोखिम नहीं उठाना चाहिए, जानिए अपना राशिफल

कालसर्प दोष कुंडली में बड़ी परेशानी का कारण बनता है, खजाना खाली हो जाता है!

Tags:
Share:
रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -