व्यापारियों एवं रहवासियों में भय व दहशत का वातावरण, जानिए क्या है मामला

नीमच से राजेन्द्र सिंह राठौड़ की रिपोर्ट 

नीमच। रतनगढ मे बहुप्रतीक्षित घाट निर्माण एवं सड़क चौड़ीकरण के पूर्व ठेकेदार द्वारा लगाए गए निशानों से स्थानीय रहवासियों एवं दुकानदारों में भय एवं दहशत का वातावरण बना हुआ है। रतनगढ़ में होकर निकलने वाले इस रोड के दोनों तरफ लगभग 150 से भी अधिक दुकानदार एवं रहवासी मकान मालिक परिवार सहित निवासरत है।एवं कई वर्षों से व्यापार व्यवसाय कर अपनी आजीविका चला रहे हैं। ज्ञात रहे कि रतनगढ़ में गुंजाली नदी की पुलिया से लगाकर घाट सेक्शन तक लगभग 3.8 कि.मी. लम्बे व ₹ 24.13 करोड़ लागत से निर्मित होने वाले रोड एवं घाट सेक्शन के निर्माण कार्य का भूमि पूजन गत दिनों मध्यप्रदेश शासन के कैबिनेट मंत्री श्री ओमप्रकाश सकलेचा द्वारा किया गया। इस घाट सेक्शन के चौड़ीकरण से क्षेत्र के रहवासियों की वर्षों पुरानी मांग पूरी होने के साथ ही बार-बार जाम लगने की गंभीर समस्या से भी मुक्ति मिलेगी व परिवहन व्यवस्था में सुधार के साथ ही यात्री वाहनों का आवागमन भी बढ़ेगा। 

जिसके चलते स्थानीय व्यापारियों के व्यापार व्यवसाय में भी वृद्धि होने की पूरी उम्मीद है।एक तरफ जहां घाट सेक्शन व सड़क के चौड़ीकरण की शुरुआत से आमजन में हर्ष एवं उत्साह का वातावरण बना हुआ है। प्राप्त सूत्रों के अनुसार रोड के दोनों तरफ पानी निकासी हेतु नाला एवं पैदल फुटपाथ का निर्माण भी किया जाना प्रस्तावित है।गत दिनों रोड निर्माण ठेकेदार द्वारा रोड के बीच सेंटर से दोनों  तरफ 10,10 मीटर की दूरी पर लाल निशान लगाए गए हैं। जिसके अनुसार अधिकांश मकान और दुकाने टूटने की श्रेणी मे आ रहे हैं। नीमच सिंगोली रोड के दोनों तरफ के रहवासी अधिकांश व्यापारियों का कहना है कि केवल रतनगढ़ में 10 मीटर की जगह रोड के बीच सेंटर से दोनों तरफ 7 या 8 मीटर की सीमा चिन्हित कर रोड निर्माण कार्य किया जाए तो अधिकांश व्यापारियों एवं रहवासियों के मकान एवं दुकान जो कई वर्षों से बने हुए हैं। टूट-फूट से बचाव व आर्थिक नुकसानी से भी बचाया जा सकता है।

जिससे इनका व्यापार व्यवसाय भी सुरक्षित रह सकेगा।इस मामले मे रोड निर्माण ठेकेदार एवं एमपीआरडीसी इंजीनियर के द्वारा अभी तक पूरी स्थिति स्पष्ट नहीं करने के कारण दोनों तरफ के अधिकांश दुकानदारों एवं व्यापारियों को अपने मकान,दूकान टूटने व व्यापार व्यवसाय चौपट होने का भय सता रहा है। ऐसी स्थिति में प्रशासन को चाहिए की स्थानीय व्यापारियों के बीच बैठकर समन्वय बनाकर वर्षों पुरानी दुकानें व मकान है उस स्थाई निर्माण को बगैर तोड़े नगर के मध्य से रोड का निर्माण कर राहत प्रदान करे। उक्त आशय की मांग रतनगढ नगर परिषद के पूर्व अध्यक्ष ओमप्रकाश मूंदड़ा ने शासन एवं प्रशासन के आला अधिकारियों से की है। साथ ही श्री मूंदड़ा ने बताया कि रोड निर्माण के दौरान बस स्टैंड के ऊपर वर्षों से गुमटियो में चाय नाश्ता एवं फल फ्रूट के ठेले लगाने वाले छोटे छोटे दुकानदारों को भी हटाए जाने का अंदेशा है। अगर ऐसा होता है तो उनके पुनर्वास एवं व्यापार व्यवसाय के लिए भी उचित स्थान प्रशासन के द्वारा उपलब्ध करवाए जावे ताकि वह बेरोजगार ना हो एवं अपने परिवार का पालन पोषण कर सके।

संतोष सुपेकर इंजीनियर एमपीआरडीसी का कहना है की - कल हाई कोर्ट की मेरी तारीख  है। एक मामले में अभी मे उज्जैन आया हुआ हूं। शीघ्र ही में रतनगढ़ आकर सभी रहवासियों एवं व्यापारियों से मुलाकात करूंगा एवं रोड निर्माण के दौरान कम से कम नुकसान हो ऐसा हम सब मिलकर प्रयास करेंगे। 

मुस्लिम व्यक्ति ने तिरुपति मंदिर में दान किये 1 करोड़ रुपए, सोने के 108 कमल भी कर चुका है भेंट

आज ही इन प्रश्नों के साथ शुरू करें अपनी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी

'शादी की बात की तो जान से मार दूंगा', कांग्रेस के इस नेता पर महिला ने लगाए दुष्कर्म के आरोप

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -