आजादी के 75 साल बाद यहाँ पहुंची ट्रेन, देखकर झूम उठे लोग

कांकेर: छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कांकेर जिले के एक छोटे से कस्बे अंतागढ़ के निवासियों को स्वतंत्रता के 75 वर्ष पश्चात् यात्री ट्रेन की सुविधा मिल गई है। जब शनिवार को पहली बार कोदल्ली राजहरा से भानुप्रतापपुर-केवटी होते हुए यात्री ट्रेन अंतागढ़ पहुंची तो वहां उपस्थित लोग खुशी से झूम उठे। 

वही अंतागढ़ अब छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से जुड़ गया है। रायपुर एवं दुर्ग से केवती तक एक स्पेशल यात्री ट्रेन का मार्ग अंतागढ़ तक बढ़ा दिया गया है। रेलवे के एक प्रवक्ता ने कहा कि कांकेर से बीजेपी सांसद मोहन मंडावी ने दोपहर एक बजकर 35 मिनट पर अंतागढ़ स्टेशन से ट्रेन को हरी झंडी दिखाई। उन्होंने बताया कि अंतागढ़ रेलवे स्टेशन पर कांग्रेस MLA अनूप नाग, पूर्व सांसद विक्रम उसेंडी एवं रेलवे और सशस्त्र सीमा बल (SSB) के अफसर भी उपस्थित थे।

उन्होंने कहा कि पहले दिन अंतागढ़ स्टेशन पर 144 टिकट बिके। यह ट्रेन हर दिन रायपुर से प्रातः 09:15 बजे प्रस्थान करेगी एवं दोपहर 01:25 बजे अंतागढ़ पहुंचेगी। यह अंतागढ़ से दोपहर 01:35 बजे प्रस्थान करेगी तथा शाम 04:40 बजे दुर्ग पहुंचेगी। दल्लीराझारा-रावघाट-जगदलपुर रेल परियोजना के प्रथम चरण के तहत दल्लीराझारा से रावघाट तक 95 किमी ट्रैक का निर्माण किया जा रहा है। रायपुर रेल मंडल के वरिष्ठ प्रचार निरीक्षक शिव प्रसाद ने कहा कि अंतागढ़ तक 59 किमी लंबे मार्ग पर अब एक यात्री ट्रेन सेवा आरम्भ हो गई है। पहले इस रूट पर रायपुर से 42 किमी दूर केवती गांव तक ट्रेन सेवा थी। अंतागढ़ केवती से 17 किलोमीटर आगे है। 

भारत के वो महानायक.., जिन्होंने दुश्मन को चटाई धूल, आज कहलाते हैं 'परमवीर'

हर घर तिरंगा अभियान भाजपा की 2024 लोकसभा चुनाव की तैयारी - सपा सांसद का बयान

जहाँ तिरंगा फहराने वालों के काट दिए जाते थे हाथ, आज उसी गांव में फहराया गया झंडा

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -