तमिलनाडु में सत्तारूढ़ DMK और सहयोगी दलों ने ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों में किया स्वीप

सत्तारूढ़ द्रमुक गठबंधन प्रतिद्वंद्वी अन्नाद्रमुक और उसके सहयोगियों से काफी आगे है। जबकि अंतिम परिणाम राज्य चुनाव आयोग द्वारा घोषित किया जाना बाकी है। तमिलनाडु में पार्टी और उसके सहयोगियों के साथ द्रमुक ने 6 अक्टूबर और 9 अक्टूबर को राज्य के नौ जिलों में हुए ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों में जीत हासिल की। ​​सत्तारूढ़ गठबंधन अन्य जिलों के 27 वार्डों में भी आगे बढ़ रहा था, जहां उपचुनाव एक संकेत देते हैं। प्रवृत्ति है कि पार्टी ने 2021 के विधानसभा चुनावों में प्रचंड जीत के बाद राज्य में अपनी उपस्थिति मजबूत कर ली है। प्रतिद्वंद्वी अन्नाद्रमुक 140 में से केवल 4 सीटों पर आगे चल रही थी और यह इस बात का स्पष्ट संकेत है कि हवा कहां चल रही थी।

जिन नौ जिलों में चुनाव हुए थे, वहां कुल 1,381 वार्डों में से 300 पंचायत यूनियन वार्डों में DMK आगे चल रही थी या जीती थी। कांग्रेस 11 सीटों पर आगे चल रही थी। विपक्षी AIADMK 1,381 पंचायत यूनियन वार्डों में से 50 सीटों पर आगे चल रही थी या जीती थी और उसके सहयोगी ने केवल एक सीट जीती थी। PMK जो 2021 के विधानसभा चुनावों में AIADMK की गठबंधन सहयोगी थी और ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनाव में अकेले लड़ी थी, वह या तो आगे चल रही थी या 13 सीटों पर जीत हासिल की थी।

एमडीएमके और वीसीके, डीएमके सहयोगी क्रमश: 8 और 3 वार्डों में आगे चल रहे हैं। इस बीच, विपक्षी अन्नाद्रमुक ने आरोप लगाया है कि तमिलनाडु में ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों में वोटों की गिनती धीमी गति से "जानबूझकर आगे बढ़ रही थी", रिपोर्टों के अनुसार। अन्नाद्रमुक के अधिवक्ताओं के संयुक्त सचिव ने राज्य चुनाव आयुक्त वी पलानी कुमार के समक्ष एक अभ्यावेदन दिया, जिसमें कहा गया था कि जिन क्षेत्रों में विपक्ष के जीतने की संभावना है, वहां वोटों की गिनती जानबूझकर धीमी की जा रही है।

जालंधर में बोले केजरीवाल- ‘एक बार आम आदमी पार्टी को मौका देकर देखिए, आप सबको भूल जाएंगे’

कीड़ो के साथ सप्लाई वाले पानी में निकल आया जिंदा सांप, मचा हंगामा

T20 वर्ल्ड कप: अगर टीम इंडिया से बाहर हुए हार्दिक पांड्या, तो कौन लेगा उनकी जगह ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -