युवाओं में तेजी से बढ़ रहा है इस जानलेवा बीमारी का खतरा, जानिए कैसे करें बचाव?

युवाओं में तेजी से बढ़ रहा है इस जानलेवा बीमारी का खतरा, जानिए कैसे करें बचाव?
Share:

यदि आपकी आयु 18 से 44 साल तक है तो सावधान हो जाइए, क्योंकि हाल ही में आई एक रिपोर्ट में बताया गया है कि इस आयु के लोगों में स्ट्रोक का खतरा तेजी से बढ़ रहा है. स्ट्रोक, एक संभावित घातक हृदय संबंधी स्थिति है, जो हाल के वर्षों में बढ़ती संख्या में युवा व्यक्तियों को प्रभावित करती देखी गई है। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, युवा वयस्कों में स्ट्रोक का जोखिम काफी बढ़ गया है। यह प्रवृत्ति चिंताजनक है क्योंकि स्ट्रोक गंभीर स्वास्थ्य जटिलताओं और यहां तक ​​कि मृत्यु का कारण बन सकता है यदि तुरंत इलाज न किया जाए।

विशेषज्ञ युवा वयस्कों में स्ट्रोक के जोखिम में इस वृद्धि के लिए कई प्रमुख कारकों को जिम्मेदार मानते हैं, मुख्य रूप से मोटापा और उच्च रक्तचाप (उच्च रक्तचाप)। स्टैनफोर्ड मेडिकल सेंटर के डेटा से पता चलता है कि 2011-2013 और 2020-2022 के बीच स्ट्रोक के मामलों में लगभग 8% की वृद्धि हुई है, जो जागरूकता बढ़ाने और निवारक उपायों की आवश्यकता को रेखांकित करता है।

स्ट्रोक से सबसे ज़्यादा प्रभावित होने वाला आयु वर्ग वर्तमान में 18 से 44 वर्ष के बीच है, जिसमें स्ट्रोक की घटनाओं में 14.6% की वृद्धि दर्ज की गई है। खराब आहार और शारीरिक गतिविधि की कमी जैसे जीवनशैली कारकों के कारण यह जनसांख्यिकी तेज़ी से कमज़ोर होती जा रही है। इसके अलावा, उच्च रक्तचाप जैसी स्थितियाँ आम हो गई हैं, जिससे स्ट्रोक का जोखिम और बढ़ गया है।

युवाओं में हृदय रोग क्यों बढ़ रहे हैं?
पिछले एक दशक में, युवा वयस्कों में स्ट्रोक के मामलों में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। चिकित्सा विशेषज्ञ इस वृद्धि का श्रेय मोटापे और उच्च रक्तचाप जैसी स्थितियों में वृद्धि को देते हैं, जो स्ट्रोक के जोखिम को काफी हद तक बढ़ा देते हैं। स्टैनफोर्ड मेडिकल सेंटर के ग्रेगरी डब्ल्यू. अल्बर्स बताते हैं कि 2011-2013 और 2020-2022 के बीच, स्ट्रोक के मामलों में लगभग 8% की वृद्धि हुई, जो सतर्क रहने के महत्व को दर्शाता है।

स्ट्रोक का जोखिम कब अधिक होता है? सी.डी.सी. की रिपोर्ट के अनुसार, 18 से 44 वर्ष की आयु के व्यक्तियों में स्ट्रोक के मामलों में 14.6% और 45-64 वर्ष की आयु के व्यक्तियों में 15.7% की वृद्धि हुई है। 2000 से 2018 के बीच, 45-64 वर्ष की आयु के व्यक्तियों में उच्च रक्तचाप में 6% से अधिक की वृद्धि हुई, जो स्ट्रोक का एक प्रमुख कारण है। जीवनशैली और आहार संबंधी समस्याओं के कारण यह समस्या और भी बढ़ जाती है।

स्ट्रोक के जोखिम को कैसे कम करें
उच्च रक्तचाप, तनाव और मधुमेह को नियंत्रित करें: इन स्थितियों का प्रबंधन स्ट्रोक के जोखिम को काफी हद तक कम कर सकता है।

खानपान में सुधार करें: फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन बढ़ाएँ। अपने आहार में प्रतिदिन 7 ग्राम फाइबर शामिल करने से स्ट्रोक का जोखिम कम हो सकता है।

स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखें: अच्छी आदतें और स्वस्थ जीवनशैली अपनाने से हृदय रोग और स्ट्रोक को रोकने में मदद मिल सकती है।

कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप की नियमित निगरानी करें: नियमित जांच से जोखिम कारकों का जल्द पता लगाने और प्रबंधन में मदद मिल सकती है।

निष्कर्ष में, युवा वयस्कों में स्ट्रोक की बढ़ती घटनाएं सक्रिय स्वास्थ्य प्रबंधन के महत्व को रेखांकित करती हैं। मोटापे, उच्च रक्तचाप जैसे जोखिम कारकों को संबोधित करके और एक स्वस्थ जीवन शैली अपनाकर, व्यक्ति इस जीवन-धमकाने वाली स्थिति से पीड़ित होने की संभावनाओं को काफी हद तक कम कर सकते हैं।

कितने घंटे और उम्र के हिसाब से कितनी करनी चाहिए एक्सरसाइज? जानिए WHO की राय

स्वाद ही नहीं त्वचा का निखार भी बनाए रखता है शहतूत का जैम, जानिए कैसे बनाएं?

अगर आपको घर पर नंगे पैर चलने की आदत है तो आज ही करें, नहीं तो बिन बुलाए बीमारियां आ जाएंगी आपके घर

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -