पंचकल्याणक में होगी मूर्ति को भगवान बनाने की प्रक्रिया

पंचकल्याणक में होगी मूर्ति को भगवान बनाने की प्रक्रिया

उज्जैन। मुनिश्री समतासागरजी महाराज के सानिध्य में उज्जैन दिगंबर जैन समाज एक नया आयाम लिखने जा रहा है जिसके अंतर्गत दिगंबर जैन समाज का सबसे बड़ा महोत्सव पंच कल्याणक के रूप में मनाया जाएगा जिसमें भगवान को सौर मंत्र देकर मूर्ति को भगवान बनाने की यह प्रक्रिया होगी। जिसमें भगवान के जन्म से लेकर ज्ञान, मोक्ष तप आदि पांच कल्याणक होंगे। यह महोत्सव मुनिश्री समतासागर महाराज के सानिध्य में दिगंबर जैन महावीर मंदिर लक्ष्मीनगर में होने जा रहा है। 30 मई से 5 जून तक चलने वाले इस महोत्सव में देशभर से ही नहीं विदेशों से भी लोग सम्मिलित होने आ रहे है।

इसी तारतम्य में श्री महावीर दिगंबर जैन मंदिर लक्ष्मीनगर में पंचकल्याण महोत्सव हेतु मुनिश्री समतासागर महाराज के सानिध्य तथा मंत्री पारस जैन, विधायक डाॅ. मोहन यादव, जैन सोशल ग्रुप इंटरनेशनल के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष अभय सेठिया के विशेष आतिथ्य में गुरूवार को कार्यालय का उद्घाटन हुआ। इस अवसर पर अशोक जैन गुनावाले, सुनील जैन खूरई, विमल चाँद वाकलिबाल, अशोक जैन चायवाला, शैलेंद्र जैन, गौरव लुहारिया, संजय लुहारिया, सूरजमाल, विनय गर्ग, संयोजक जीवंधर जैन, नरेंद्र बिलाला, सुरेश छाबरा, इंद्रकुमार बड़जात्या, मनोज पहारिया, प्रदीप बाकलिबाल, विपिन बड़जात्या आदि उपस्थित रहे।

मीडिया प्रभारी सचिन कासलीवाल के अनुसार इस अवसर पर आयोजित धर्मसभा में मंत्री पारस जैन ने विद्यासागरजी महाराज के भोपाल में चातुर्मास के संस्मरण सुनाए एवं पंच कल्याणक में हरसंभव मदद करने का आश्वासन दिया। विधायक मोहन यादव ने कहा कि ऐसे संत का सानिध्य होना बड़ा ही दुर्लभ होता है, एक बार फिर आज मुझे सिंहस्थ की यादें ताजा हो गई। वहीं समतासागर महाराज ने अपने प्रवचन में कहा कि बूचड़खाने बंद हो, पशुओं की रक्षा हो, जल का सदुपयोग हो, स्वच्छ भारत अभियान में सभी सहयोग दे। मुनिश्री ने बताया कि गौ माता की रक्षा का उत्तरदायित्व सभी का है। कार्यक्रम के पश्चात अतिथियों का शाल-श्रीफल एवं तिलक लगाकर सम्मान किया गया। तत्पश्चात कार्यालय का उद्घाटन हुआ। मुनिश्री के सानिध्य में संपूर्ण कार्यक्रम आयोजित हुए। जिसमें लगभग सभी पात्रों का चयन हो चुका है।

केनवास पर बच्चे उकेरेंगे जैन धर्म के रंग

सकल दिगंबर जैन सामाजिक संसद द्वारा रविवार को सूर्य सागर दिगंबर जैन स्कूल नईपेठ में सुबह 9 बजे एक भव्य चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा जिसमें संपूर्ण मंदिरों में प्रचार कर छोटे-छोटे बच्चों को शामिल होने हेतु आग्रह किया गया है। जैन धर्म विषय अंतर्गत दिगंबर मुनिराज, तीर्थ क्षेत्र, जैन चिन्ह, जिन मंदिर, जिन शास्त्र, जैन संदेश पर सैकड़ों बच्चों द्वारा अपनी कल्पनाएं केनवास पर उतारी जाएंगी।

कौन था महिषासुर : कथा