5500 साल पुराने मंदिर का अस्तित्व मिटने की कागार पर पहुंचा, जाने रहस्यमय इतिहास

Feb 21 2020 06:28 PM
5500 साल पुराने मंदिर का अस्तित्व मिटने की कागार पर पहुंचा, जाने रहस्यमय इतिहास

जालंधर: यह एक ऐतिहासिक धाम हैं. यह पठानकोट के प्रसिद्ध मुक्तेश्वर शिवधाम को प्राचीन पांडव गुफा के नाम से जाना जाता है. इस शिवालिक की पहाड़ियों में करीबन 5500 साल से भी पुराने इस धाम के बारे में बताया जाता है किइसे पांडवों ने विकसित किया था. इस धाम को छोटा हरिद्वार भी बताया जाता है. इन दिनों शाहपुर कंडी बैराज के निर्माण कार्य के चलते इस ऐतिहासिक स्थल का अस्तित्व खतरे में मंडरा रहा हैं यहां तक कि बरसों से मंदिर बचाओ समिति इस खतरे के खिलाफ लड़ाई लड़ रही है.

मुक्तेश्वर धाम पठानकोट में जिला मुख्यालय से 22 किलोमीटर, मीरथल से 4 किलोमीटर और ब्यास और चोच नदियों के मिलन बिंदु पर इंदौरा से 7 किलोमीटर दूर रावी नदी के समीप स्थित है. रणजीत सागर बांध और हाल ही में निर्माणधीन शाहपुर कंडी बांध के बीच गांव ढूंग में यह शिवधाम है. किम्वदंति के मुताबिक द्वापर युग में युद्धिष्ठिर अज्ञातवास काटने अपने चारों भाइयों और द्रौपदी के साथ करीबन 6 महीने यहां रहे थे. यहां गुफाओं में उन्होंने शिवलिंग स्थापित किया था.

मुक्तेश्वर धाम बचाओ समिति के समिति के चेयरमैन नवीन अग्रवाल, महासचिव भीम सिंह व अन्य की मानें तो 20 फरवरी 1995 को जब इस जगह को असुरक्षित घोषित किया गया तो ग्राम पंचायतों के प्रयास से 29 मार्च 1995 को भूमि-अधिग्रहण विभाग की मीटिंग में यह फैसला लिया गया- मुक्तेश्वर मंदिर के 22 कनाल एरिया का अधिग्रहित नहीं किया जाएगा. इसके जब सरकारें या प्रशासन गंभीर नहीं हुआ तो मुक्तेश्वर धाम बचाओ समिति के बैनर तले यह एक जन आंदोलन बन चुका हैं.

अब शाहपुर कंडी में बांध बनने के चलते इसकी झील में इस स्वर्णिम इतिहास के लोप हो जाने का खतरा नजर आ रहा है.जिसके कारण मंदिर बचाओ समिति के अनुसार यह प्रोजेक्ट पूरा होने में कुछ ही महीने का समय शेष है, जिसके पश्चात् यहां निर्धारित जलस्तर 405 मीटर भरा तो एक और दो नंबर की गुफाएं पूरी तरह से जल में समा जाएंगी. भीम सिंह की मानें तो गुफा नंबर 1 के दरवाजे का निचला तल 401 मीटर पर है. डूब जाने से बचाने के लिए समिति की चेतावनी है कि जब तक धाम को बचाने की गारंटी नहीं होगी, तब तक झील में पानी नहीं भरने दिया जाएगा. इस झरने के वजह से धाम का अस्तित्व खतरे में पड़ सकता हैं.

धर्म को लेकर भाजपा पर गरजी सीएम ममता बनर्जी, कहा-हम एक अखंड भारत से प्यार करते हैं...

26 फरवरी से शुरू होने जा रहे भस्म बुधवार के बारे में ये बाते नहीं जानते होंगे आप ...........

कुछ इस तरह होगा आज आपका दिन, इन राशि वालों की चमकेगी किस्मत