नशामुक्ति और पुनर्वास केंद्र पर स्वास्थ्य विभाग ने मारा छापा, आपत्तिजनक सामग्री देख अफसरों के भी उड़े होश

देहरादून: उत्तराखंड में स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन की संयुक्त टीम ने जीवनदान नशामुक्ति एवं पुनर्वास केंद्र में छापा मारा। टीम को केंद्र से गर्भ निरोधक तथा सेक्सवर्धक दवाएं, नशे के इंजेक्शन आदि आपत्तिजनक चीजें प्राप्त हुई है। टीम ने केंद्र को सील करने के पश्चात उसमें रह रहे तीन रोगियों को सरकारी चिकित्सालय में शिफ्ट कर दिया है।

वही गुरुवार को एसीएमओ डॉ. तपन कुमार शर्मा, तहसीलदार जगमोहन त्रिपाठी ने पुलिस, स्वास्थ्य एवं औषधि विभाग के अफसरों के साथ चिंतीमजरा क्षेत्र में नुकलिया मार्ग पर मौजूद जीवनदान नशामुक्ति एवं पुनर्वास केंद्र पर छापा मारा। टीम ने केंद्र के अभिलेखों की जांच तथा रोगियों को दी जाने वाली दवाओं आदि की खबर ली। वहां उपस्थित महिला ने टीम को बताया कि केंद्र के तीन पार्टनर हरजेंद्र सिंह, वाहिद अली, साजिम अंसारी हैं। तीनों साझेदार मौके पर नहीं मिले। केंद्र में तीन रोगी भर्ती मिले किन्तु उनकी कोई हिस्ट्री नहीं थी। जांच टीम को मौके पर गर्भ निरोधक दवाएं, नशे की गोलियां, दर्द निवारक इंजेक्शन सहित कई प्रतिबंधित दवाएं प्राप्त हुई।

इसके साथ ही टीम को केंद्र का पंजीकरण भी नहीं प्राप्त हुआ तथा वहां रह रहे रोगियों के उपचार व देखभाल के लिए भी कोई डॉक्टर तैनात नहीं था। रोगियों के कक्ष में नशे की औषधियां, बीड़ी, सिगरेट पड़ी थीं। औषधि विभाग के वरिष्ठ निरीक्षक डॉ. सुधीर कुमार ने आपत्तिजनक सामान को बरामद कर केंद्र सील कर दिया। वहीं, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने केंद्र में मिले तीनों मरीजों को 108 एंबुलेंस की सहायता से सीएचसी में एडमिट कराया। चिकित्साधीक्षक डॉ. राजेश आर्या ने बताया कि केंद्र संचालकों व डॉक्टर के न मिलने से पूछताछ नहीं हो सकी। तहकीकात के बाद केंद्र संचालकों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

दोहरे हत्याकांड से दहला अलीगढ़, ज्वैलर्स की पत्नी और बेटे की चाकू से गोदकर हत्या

वन विभाग के रेंजर के यहां पड़ी रेड, मिली नोटों की इतनी गड्डियां कि अधिकारी भी हो गए हैरान

'25 हजार ही चाहिए, टेंशन मत लीजिए CCTV तो सिर्फ डराने के लिए हैं', बोलकर BDO ने ले ली रिश्वत

Most Popular

- Sponsored Advert -