तुवर के कट जाने के बाद ही होगी

तुवर के कट जाने के बाद ही होगी

मोहन का इन्तेजार तो दस गाव की छोरिया कर रही है।

पर मोहन का छोरियो का दिखना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है।

.. क्यों की ?

मोहन तो अपने खेत में तुवर की बुआई कर रहा है।

और मोहन का एक ही उसूल है न प्यार का जिक्र होगा और न प्यार की बात होगी।

अब मोहब्बत जिससे भी होगी तुवर के कट जाने के बाद ही होगी।