मनसुख मंडाविया ने कहा- "केंद्र सरकार किसान हितैषी..."

केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया ने बुधवार को कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार "किसान समर्थक और उद्योग के अनुकूल" है। मनसुख मंडाविया ने इन्वेस्टर समिट में बोलते हुए कहा, "हमारी सरकार किसान समर्थक और उद्योग के अनुकूल है। हम यह देखते हैं कि उद्योग आगे बढ़ें और टिके रहें। भारतीय कंपनियां आपूर्ति करते समय कभी धोखा नहीं देती हैं। हमारा चरित्र गुणवत्ता बनाए रखना है।"

शिखर सम्मेलन का विषय "फार्मास्युटिकल्स और चिकित्सा उपकरणों में अवसर और भागीदारी" है। केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि जब कोविड-19 की पहली लहर आई, तब दुनिया में कोविड-19 की दवाएं नहीं थीं। उन्होंने कहा "हमने न केवल अपनी स्थिति को नियंत्रण में लाया, अपनी खुद की दवा की जरूरतों को पूरा किया बल्कि 150 से अधिक देशों को दवाओं की आपूर्ति भी की। यह हमारी प्रतिबद्धता है।" उन्होंने कहा "आज भारत जेनेरिक दवाओं का सबसे बड़ा निर्माता और आपूर्तिकर्ता है। हम 'वसुधैव कुटुम्बकम' में विश्वास करते हैं। हम यह देख रहे हैं कि दुनिया को सस्ती दवा मिले।"

15000 करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ शुरू की गई फार्मास्यूटिकल्स के लिए पीएलआई ने योजना के तहत विचार करने के लिए आवेदन करने वाली लगभग 278 कंपनियों के साथ काफी रुचि आकर्षित की है। यह शिखर सम्मेलन इन उत्पादों में भारत में वैश्विक चैंपियन बनाने के इच्छुक निवेशकों को प्रोत्साहित करेगा। यह याद किया जा सकता है कि इस साल की शुरुआत में चिकित्सा उपकरणों के लिए पीएलआई योजना के तहत 13 कंपनियों का चयन किया जा चुका है जो लक्षित उपकरणों के घरेलू विनिर्माण को बढ़ाने में उनके निवेश का समर्थन करेंगे। इन सत्रों में उभरते हुए स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र के वित्तपोषण को भी शामिल किया जाएगा, और यह पीएलआई योजनाओं के तहत चुने गए आवेदकों को निवेश की सुचारू ग्राउंडिंग के बारे में व्यापक सुविधा प्रदान करने पर एक सत्र के साथ समाप्त होगा।

10 साल पुराना है शाहरुख़ खान और समीर वानखेड़े का नाता, जानिए पूरा मामला

रिलीज हुआ तड़प का ट्रेलर, जबरदस्त अंदाज में नजर आए सुनील शेट्टी के बेटे अहान

दिसंबर में शादी करने जा रहे है आलिया-रणबीर! एक्टर ने पोस्टपोन की फिल्म की शूटिंग

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -