भारत-म्यांमार बॉर्डर पर आतंकियों का हमला, सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब

नई दिल्ली: पूर्वोत्तर भारत के दो अलग-अलग राज्यों में भारत-म्यांमार सीमा पर आज आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच भीषण फायरिंग हुई। यह घटना पूर्वोत्तर के आतंकी संगठनों द्वारा स्वतंत्रता दिवस के बहिष्कार के ऐलान के कुछ दिनों बाद हुई है। सुरक्षाबलों और आतंकियों में पहले अरुणाचल प्रदेश के पंगसौ दर्रे में भिड़ंत हुई। जबकि गोलीबारी की दूसरी घटना नागालैंड के नोकलाक जिले में घटी। सरकार ने अपने बयान में बताया है कि आतंकियों ने मंगलवार सुबह तिरप चांगलांग इलाके में भारत-म्यांमार बॉर्डर पार से असम राइफल्स के सैनिकों पर गोलीबारी की।

सूत्रों ने जानकारी दी है कि ‘नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड’ (NSCN-KYA) और ‘यूनाइटेड लिबरेशन फ़्रण्ट ऑफ़ असम’ (ULFA-I) के आतंकियों के एक समूह ने असम राइफल्स कैंप पर गोलीबारी की। उग्रवादियों ने शिविर पर हमला करने के लिए रॉकेट से चलने वाले ग्रेनेड और लाथोड बमों का उपयोग किया। जिसके बाद असम राइफल्स के जवानों ने जवाबी गोलीबारी की और उग्रवादियों पर तोबड़तोड़ गोलिया बरसाईं। एक सूत्र ने बताया कि फायरिंग की इस घटना में किसी के मारे जाने की कोई सूचना नहीं है।

एक सरकारी बयान के अनुसार, इस घटना में एक जूनियर कमीशंड अधिकारी जख्मी हुआ है। जिसके हाथ में मामूली चोटें आईं हैं। सुरक्षाबलों ने इन हमलों को अंजाम देने वाले उग्रवादियों का पता लगाने के लिए भारत-म्यांमार बॉर्डर के पास एक बड़ा अभियान शुरू किया है। बता दें कि पंगसौ दर्रा अरुणाचल प्रदेश के सबसे दूरस्थ इलाकों में शामिल है। पूर्वोत्तर के अधिकतर उग्र समूहों के कैंप म्यांमार के जंगलों में स्थापित होते हैं।

मुहर्रम पर तिरंगे का अपमान, राष्ट्रीय ध्वज पर बना डाले मस्जिद और चाँद-तारे के निशान

50 साल पहले तमिलनाडु से चोरी हुई 12वीं सदी की शिव-पार्वती प्रतिमा अमेरिका में मिली

राष्ट्रीय पार्टी बनने से बस एक कदम दूर AAP, गोवा में पार्टी को मिली मान्यता

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -