स्वार्थ सिद्धि के लिए अबू सलेम कानून की शरण में

Mar 13 2018 01:47 PM
स्वार्थ सिद्धि के लिए अबू सलेम कानून की शरण में

नई दिल्ली: 1993 में हुए मुंबई बम ब्लास्ट्स के आरोप में मुंबई जेल में सजा काट रहे कुख्यात आतंकवादी, अबू सलेम ने उत्तर प्रदेश के जिले आजमगढ़ स्थित सरायमीर पुलिस को पत्र लिख कर न्याय की गुजारिश की है.जो कभी खुद कानून तोड़ता था, समय के फेर ने उसे कानून की चौखट पर सिर टेकने को मजबूर कर दिया है. दरअसल, अबू सलेम को अब अपनी पुश्तैनी जमीन के कब्जा होने का डर सताने लगा है, जिसके लिए सलेम ने पुलिस से इस मामले में दखल देने की मांग की है.

सलेम ने अपने पत्र में लिखा है कि, 2013 तक उसकी पुश्तैनी जमीन के दस्तावेजों पर उसका और उसके भाइयों का नाम था, लेकिन 2017 में जब जमीन के दस्तावेजों की नक़ल निकली गई तो उसमे कुछ और लोगों के ही नाम थे और सलेम का नाम नहीं था. उसके मुताबिक, उस भूखंड आराजी पर मोहम्मद नफीस, मोम्मद शौकत, सरवरी, मोहिउददीन, एखलाख और नदीम अख्तर का नाम दर्ज हो गया . सलेम का कहना है कि, कुछ लोग उसकी पुश्तैनी जमीन हड़पना चाहते हैं, इसीलिए उसने पुलिस में शिकायत की है.

आपको बता दें कि, विवादित जमीन पर मॉल का निर्माण कार्य चल रहा है. सलेम की शिकायत पाकर पुलिस ने स्तिथि का जायज़ा लिया और दूसरे पक्ष की बात भी सुनी. दूसरे पक्ष का कहना है कि, उनके द्वारा इस जमीन को बैनामा वश 2002 में लिया गया है. अब इस बारे में पुलिस जाँच करने में जुटी है कि, उस जमीन की सच्चाई क्या है ? हालांकि, यह बात तो सत्य है कि, अबू सलेम उसी क्षेत्र का रहने वाला है, लेकिन जमीन से उसका रिश्ता अभी तक अस्पष्ट है. ​

खेत जा रही लड़की के साथ युवक ने की छेड़खानी

गुस्से में हवलदार ने चार लोगों को मारी गोली और कर ली खुदकुशी

फैशन डिजाइनिंग छात्रा ने बनाया लुटेरों का गिरोह

 

?