+

टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने दिए संकेत, अगले वर्ष तक ले सकते है संन्यास

Dec 04 2019 05:12 PM
टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने दिए संकेत, अगले वर्ष तक ले सकते है संन्यास

नई दिल्ली: सोमवार को भारत के दिग्गज टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने संन्यास लेने के संकेत दे दिए हैं। लिएंडर पेस ने कहा कि वह प्रतिद्वंद्वियों पर जीत के लिए अपने अनुभव पर भरोसा करते हैं और वह एक वर्ष से ज्यादा नहीं खेलना चाहते हैं। कई शीर्ष खिलाड़ियों के इस्लामाबाद जाने से इनकार करने के बाद पेस को पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले के लिए भारत की डेविस कप टीम में चुना गया था।

46 वर्षीय टेनिस प्लेयर लिएंडर पेस ने डेविस कप में 44वां युगल मैच जीतकर खुद के रिकॉर्ड को बेहतर कर दिया हैं। इस मुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 4-0 से हराया था। इस बारे में लिएंडर पेस ने कहा, "अब मैं अपने अनुभव के दम पर जीत दर्ज करता हूं लेकिन टीम के हितों को देखते हुए मुझे एक साल से अधिक नहीं खेलना चाहिए।" पेस ने यह भी कहा कि भारतीय टेनिस का अभी मुख्य उद्देश्य नई और युवा टीम तैयार करना होना चाहिए।

ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता लिएंडर पेस ने कहा, "मैं 46 साल का हो चुका हूं और मेरी जगह अब नई पीढ़ी को लेनी चाहिए। इसलिए वास्तव में इसे उद्देश्य के रूप में देखना चाहिए। युवा टीम तैयार करना महत्वपूर्ण है।" साथ ही पेस ने यह कहा कि मैं ज्यादा लंबे वक्त तक नहीं खेलने जा रहा। डेविस कप में 30 साल तक का मेरा सफर शानदार रहा है। मैंने अपने देश के लिए खेलते हुए अपने खेल का जमकर लुत्फ उठाया। हालात चाहे जैसे भी हों लेकिन जब भी मेरी जरूरत होगी मैं देश के लिए खेलने के लिए तैयार रहूंगा।

पेस ने पाकिस्तान पर डेविस कप में मिली जीत को खास बताया। उन्होंने कहा हैं कि मुकाबले से पहले कई तरह की बातें सुनने को मिल रही थी लेकिन अहम यह है कि भारत ने कजाखिस्तान में एक तटस्थ जगह पर पाकिस्तान को 4-0 से हराया इसलिए यह जीत खास है। साथ ही पेस ने पाकिस्तान पर जीत के लिए भारतीय टीम के गैर खिलाड़ी कप्तान रोहित राजपाल और कोच जीशान अली की भी सराहना की। पेस, जीशान और राजपाल स्वदेश लौटने के बाद संवाददाता सम्मेलन में भाग ले रहे थे।

South Asian Games Volleyball के फाइनल में पाकिस्तान को पस्त कर भारत ने हासिल किया गोल्ड मेडल

Ballon d'or Award : लियोन मेसी बनें प्रबल दावेदार, छठी बार पुरस्कार को हासिल करने की दौड़ में रोनाल्डो

सुनामी में तबाह हुई लकड़ियों से बन कर तैयार हुआ टोक्यो ओलंपिक का स्टेडियम