यह खबर पढ़ कर उड़ जाएंगे टेनिस प्रेमियों के होश...

Jan 19 2016 12:29 PM
यह खबर पढ़ कर उड़ जाएंगे टेनिस प्रेमियों के होश...

लंदन : एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले 10 साल से टेनिस जगत के 16 टॉप खिलाडिय़ों के मैच फिक्सिंग में शामिल होने का संदेह है लेकिन किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई . इन सब के बीच अब वर्ल्ड नंबर वन नोवाक जोकोविक ने फिक्सिंग को लेकर बड़ा बयान दिया है उन्होंने कहा कि उन्हें भी फिक्सिंग के लिए संपर्क किया गया था.

जोकोविक के मुताबिक मैच फिक्सिंग के लिए करीब 1 करोड़ 35 लाख रुपए ऑफर किए गए थे. नोवाक ने बताया कि उन्हें डायरेक्ट अप्रोच नहीं किया गया. उन्होंने कहा कि 2007 में मेरे साथ जो लोग काम करते थे उनके जरिए अप्रोच किया गया हालांकि मैंने इससे मना कर दिया था.

गौरतलब है कि ऐसा कहा जा रहा है कि खिलाडिय़ों से डील बड़े टूर्नामेंट्स के दौरान होटलों के रूम में होती है. BBC और बजफीड ने रविवार को मैच फिक्सिंग से जुड़ी सीक्रेट फाइलें देखने का दावा किया. दावे के मुताबिक, पिछले 10 साल में 50 टॉप रैंकिंग प्लेयर्स में 16 ऐसे हैं, जो कथित तौर पर मैच फिक्सिंग में लिप्त रहे हैं. इसकी जानकारी टेनिस इंटेग्रिटी यूनिट (TIU) को भी है.

विम्बलडन के मैच भी फिक्स

रिपोर्ट में कहा गया है, जिन प्लेयर्स पर आरोप लगे, उनमें ग्रैंड स्लैम सीजन का पहला टूर्नामेंट जीतने वाले भी शामिल हैं. लेकिन इनमें से किसी को भी खेलने से रोका नहीं गया.रिपोर्ट के मुताबिक विम्बलडन के भी तीन मैच फिक्स किए जा चुके हैं. हालांकि, इनकी डिटेल नहीं दी गई है.

रिपोर्ट के अनुसार 2008 में ATP ने 28 प्लेयर्स की जांच के ऑर्डर दिए थे, लेकिन इसके बाद कोई कार्रवाई नहीं की गई. 2009 में भी ATP ने एंटी-करप्शन कोड बनाया, लेकिन लीगल एडवाइस लेने के बाद पुराने मामलों को दबा दिया गया.