कर 'नाटक' : अब तेजस्वी बोले- बिहार सरकार भंग कर कर्नाटक की तर्ज पर बने सरकार, देंगे धरना

कर्नाटक का चुनावी घमासान थमने का नाम ही नही ले रहा है. चुनाव परिणाम के दिन से ही राज्य में चहु ओर सियासी पारा चढ़ा हुआ है. आज बढ़ते विरोध के बीच भाजपा की ओर से कर्नाटक सीएम पद के उम्मीदवार येदियुरप्पा ने अंततः कर्नाटक की गद्दी संभाल ही ली. भाजपा ने इस तरह कांग्रेस-जेडीएस को एक बड़ा झटका दिया हैं. गौरतलब है कि कल रात कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई ने भाजपा को राज्य में सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते सरकार बनाने का न्योता दिया था. जिसके बाद से ही कांग्रेस-जेडीएस समेत कई पार्टियों ने लोकतंत्र पर सवाल खड़े किए थे. 

बिहार की राजनीति में भी कर्नाटक की राजनीति की आंच पहुंच चुकी हैं. बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कर्नाटक में भाजपा की सरकार पर तीखा हमला बोला हैं. उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा कि कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या के विरोध में कल पटना में राजद का एक दिवसीय धरना होगा. हम राज्यपाल महोदय से मांग करते है कि वो वर्तमान बिहार सरकार को भंग कर कर्नाटक की तर्ज़ पर राज्य की सबसे बड़ी पार्टी राजद को सरकार बनाने का मौका दें. मैं भाजपा के तर्क पर यह दावा ठोंक रहा हूं.

गौरतलब है कि बिहार में आरजेडी के 80, जेडीयू के 71 और बीजेपी के 53 विधायक हैं. इस तरह कर्नाटक की तर्ज पर तेजस्वी ने बिहार में भी सबसे बड़ी पार्टी की सरकार बनाने की बात कही हैं. बता दे कि 15 मई को जारी चुनावी परिणाम में भाजपा को 104 , कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली थी. पूर्ण बहुमत किसी भी पार्टी को नहीं मिला था. कांग्रेस ने जेडीएस के साथ मिलकर सरकार बनाने की बात कही थी. जबकि भाजपा ने राज्यपाल से मिलकर कहा था कि भजपा सबसे बड़ी पार्टी हैं, और उसे सरकार बनाने का मौका देना चाहिए. इसके बाद राजयपाल ने भाजपा को कल रात सरकार बनाने का न्योता दिया. जहां आज सुबह येदियुरप्पा ने कर्नाटक के मुख्य्मंत्री पद के रूप में शपथ ग्रहण कर ली. राज्यपाल ने साथ ही 15 दिन के भीतर भाजपा सरकार से पूर्ण बहुमत साबित करने की बात कही हैं. 

सीएम बनते ही येदियुरप्पा ने किया किसानों का कर्ज माफ़

राहुल गांधी ने कहा, हिंदुस्तान को चलाने में हर एक की भागीदारी हो

जन्मदिन विशेष: स्वतंत्रता और समानता के समर्थक, एच.डी. देवेगौड़ा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -