इमरान की पुलिस पर हमले कर रहे कट्टरपंथी, पाकिस्तान में गृहयुद्ध के हालात

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लबैक पाकिस्तान (TLP) के समर्थकों और पुलिस के बीच खूनी संघर्ष शुरू हो गया है. ये संघर्ष तब शुरू हुआ जब इमरान सरकार और TLP के बीच हुई वार्ता नाकाम हो गई. बता दें कि TLP अपनी पार्टी के मुखिया साद रिज़वी की रिहाई और फ्रांस के राजदूत को निष्कासित करने की मांग कर रही है. 

TLP ने अपनी मांगें पूरी करने के लिए रविवार सरकार को दो दिन का अल्टीमेटम दिया था. साथ ही, ये चेतावनी भी दी थी कि यदि उनकी मांगें नहीं मानी जाती हैं तो राजधानी इस्लामाबाद का घेराव किया जाएगा. इसके बाद बुधवार को TLP ने इस्लामाबाद की तरफ कूच कर दिया, जिस वजह से कई जगहों पर पुलिस और TLP समर्थकों के बीच संघर्ष हुआ. पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद ने गुरुवार की शाम कहा कि सरकार TLP के साथ वार्ता कर रही है. साथ ही, उन्होंने पार्टी के कैद मुखिया साद रिज़वी के साथ भी फोन पर बात की थी, मगर अभी तक कोई समझौता नहीं हुआ है.

उन्होंने कहा कि, 'TLP के साथ हमारी जो भी सहमति बनी है, हम उस पर बरक़रार हैं. किन्तु वे अभी भी हमारी बात नहीं सुन रहे हैं और कदम पीछे नहीं ले रहे हैं.' पाक सरकार का कहना है कि वह पार्टी की पहली मांग मानने के लिए तैयार है, जिसमें रिज़वी को रिहा करना शामिल है. किन्तु फ्रांसीसी राजदूत को औपचारिक तौर से निष्कासित करने के लिए तैयार नहीं है.

अफ़ग़ानिस्तान को 14.4 करोड़ डॉलर देगा अमेरिका, क्या तालिबान की तरफ दोस्ती का हाथ ?

तालिबान ने प्रतिबंध हटाने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय का मांगा समर्थन

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए श्रीलंका ने पांच नई एयरलाइंस शुरू करने की दी मंजूरी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -