कमजोरी के दौर में भी टैक्स कलेक्शन के आंकड़े अच्छे

Feb 10 2016 04:05 PM
कमजोरी के दौर में भी टैक्स कलेक्शन के आंकड़े अच्छे

फ़िलहाल शेयर बाजार की हालत खस्ता जरूर है लेकिन टैक्स कलेक्शन के आंकड़े यह बता रहे हैं भारतीय इकोनॉमी की अंदरूनी सेहत अभी तक खराब नहीं हुई है. इस बात की जानकारी राजस्व सचिव हंसमुख अढ़िया ने ट्वीट करके दी. उन्होंने बताया है कि 31 जनवरी तक के आंकड़ों की बात करे तो इनडायरेक्ट टैक्स में 33 फीसदी उछाल आया है, वहीं डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में भी 10 फीसदी से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है. और सरकार को भी इस बात का पूरा भरोसा है कि वो टैक्स कलेक्शन के तय लक्ष्य को हासिल कर लेगी.

अब तक तय किये गए लक्ष्य का 73.5 फीसदी टैक्स कलेक्शन हो चूका है. और आने वाले समय में इनडायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 40 हजार करोड़ बढ़ सकता है और डायरेक्ट टैक्स में भी बढ़ोतरी होगी. जिस कारण इस साल टैक्स रेवेन्यू के लक्ष्य को हासिल करने की उम्मीद भी जागी है. इन आंकड़ों से निवेश बढ़ने के पुख्ता संकेत मिल रहे हैं. आपको बता दे कि इस साल 14.49 लाख करोड़ रुपये के टैक्स कलेक्शन का लक्ष्य तय किया गया है.

सरकार द्वारा टैक्स कलेक्शन के जो आंकड़े पेश किए गए हैं उसके अनुसार इलेक्ट्रिकल मशीनरी के टैक्स कलेक्शन में 34.4 प्रतिशत, बैंकिंग और फाइनेंशियल के टैक्स कलेक्शन में 44.6 प्रतिशत, सर्विसेज के टैक्स कलेक्शन में 27.2 प्रतिशत, गुड्स ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज के टैक्स कलेक्शन में 41 प्रतिशत और वर्क कॉन्ट्रैक्ट सर्विसेज के टैक्स कलेक्शन में 39.9 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखने को मिली है.