टाटा इंस्टिट्यूट ने खोला देश का पहला 'समलैंगिक' हॉस्टल

Sep 15 2018 12:50 PM
टाटा इंस्टिट्यूट ने खोला देश का पहला 'समलैंगिक' हॉस्टल

मुंबई: देश की शीर्ष अदालत द्वारा समलैंगिकता को वैध बनाने के कुछ दिन बाद, लिंग भेदभाव को दरकिनार करते हुए टीआईएसएस में एक तटस्थ छात्रावास स्थापित किया गया है. एक हॉस्टल निवासी और टीआईएसएस के छात्र ने कहा, "यह किसी अन्य हॉस्टल की तरह है, जिसमे सभी लिंगों को अंदर जाने की इजाजत है."

बुराड़ी कांड : रिपोर्ट में हुआ अब तक का सबसे बड़ा खुलासा, सामने आया 11 लोगों की मौत का राज

इससे पहले छात्रावास के जमीनी तल को केवल लड़कियों के लिए निर्धारित किया गया था, तब एलजीबीटीक्यू समुदाय के लिए कोई विशेष स्थान आवंटित नहीं था. लेकिन सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद हॉस्टल प्रशासन द्वारा यह कदम उठाया गया है. पिछले साल, घोषणापत्र में लिंग-तटस्थ छात्रावास को शामिल करने के लिए क्वियर कलेक्टिव (क्यूसी) द्वारा टीआईएसएस में एक अभियान शुरू किया गया था. TISS के एक सदस्य ने बताया कि इसके लिए प्रस्ताव सितम्बर 2017 को पारित कर दिया गया था, लेकिन  उस समय यह अस्तित्व में नहीं आया था. 

आज फिर पेट्रोल-डीजल का नया भाव हुआ तय, 89 रूपए का आंकड़ा किया पार

टीआईएसएस के डीन आशा बानो कहती हैं, "हॉस्टल छात्रों, संकाय और प्रशासन का सामूहिक प्रयास है." "साथ ही, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि संस्थान ने एलजीबीटीक्यू छात्रों को आगे विभाजित नहीं किया जाएगा. एक छात्र जो लिंग बाइनरी के अनुरूप नहीं है या ट्रांसजेंडर है, इस छात्रावास में रहने का विकल्प चुन सकता है. हॉस्टल की एक छात्रा ने बताया कि महिलाओं और पुरुषों के छात्रावास के विपरीत, जहां छात्रावास में विपरीत लिंग की अनुमति नहीं रहती है, इस लिंग-तटस्थ हॉस्टल में 10 बजे तक सभी लोग आमंत्रित हैं. छात्रा ने कहा है कि यह हॉस्टल आपको लिंग भेदभाव को दरकिनार कर विचार विमर्श और आनंद मानाने का मौका देता है. 

खबरें और भी:-​

इंजिनियर इतिहास का निर्माता रहा है और आज भी है

मनोहर पर्रिकर की हालत बिगड़ी, AIIMS में होंगे भर्ती, गोवा में राजनीतिक हलचल तेज

BJP खेल रही है 'नीरव उड़,माल्या उड़' : कांग्रेस