22 करोड़ के कांड में फंस सकते है टाटा

नई दिल्ली :  टाटा समूह के मौजूदा अंतरिम अध्यक्ष रतन टाटा, 22 करोड़ के हवाला कांड में फंस सकते है। हालांकि अभी मामले की छानबीन का सिलसिला शुरू हो गया है लेकिन जिस तरह से समूह के निष्कासित अध्यक्ष सायरस मिस्त्री ने रतन टाटा पर आरोप लगाये है, उससे उनके मामले में उलझने की बात से इनकार नहीं किया जा सकता।

गौरतलब है कि मिस्त्री को बीते दिनों समूह अध्यक्ष पद से हटा दिया गया था। इसके बाद से ही मिस्त्री ने रतन टाटा के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। मिस्त्री के अनुसार टाटा समूह ने विमानन क्षेत्र में एयर एशिया के साथ 22 करोड़ का सौदा किया था लेकिन मिस्त्री का आरोप है कि फोरेंसिक जांच में 22 करोड़ रूपये के धोखाधडी वाले सौदे का खुलासा हुआ है क्योंकि जिन पक्षों का जुड़े होना बताया गया था वे वास्तव में थे ही नहीं।

मिस्त्री के अनुसार सौदे में भारत और सिंगापुर के बीच पक्ष जुड़े होने की जानकारी दी गई थी। इस मामले में मिस्त्री ने समूह के निदेशक मंडल को भी पत्र लिखा था। यह उस वक्त की बात थी, जिस दौरान मिस्त्री को अध्यक्ष पद से निष्कासित कर दिया गया था। मिस्त्री ने बताया है कि एयर एशिया के सौदे में होने वाले फर्जीवाड़े से निदेशक मंडल के सदस्य सब कुछ जानते है।

स्वामी के बोल-मिस्त्री के साथ टाटा ने किया अन्याय

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -