तमिलनाडु के सीएम ई पलानीस्वामी ने मेकेदातु बांध को लेकर कही ये बात

तमिलनाडु के सीएम ई पलानीस्वामी ने मेकेदातु बांध को लेकर कही ये बात

मेकेदातु बांध के संबंध में सख्त निर्णय लिया गया है। तमिलनाडु विधानसभा में मंगलवार को तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एडापदी के पलानीस्वामी ने घोषणा की कि राज्य सरकार कर्नाटक में मेकेदातु बांध के निर्माण के लिए कभी अनुमति नहीं देगी। यह भाषण कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा और राज्य के जल संसाधन मंत्री रमेश जारकिहोली के केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मिलने के लिए एक दिन पहले आया है।

सीएम ने विधानसभा में कहा, कर्नाटक ने इसे कावेरी जल प्रबंधन प्राधिकरण में लाया और हमने इसका पूरी ताकत के साथ विरोध किया। फिर इसे एजेंडे से हटा दिया गया। इस बांध के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में मामला चल रहा है। इसलिए मैं स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूं कि तमिलनाडु सरकार उन्हें मेकेदातु बांध का निर्माण करने की अनुमति नहीं देगी। वह डीएमके के दुरई मुरुगन द्वारा उठाई गई जांच का जवाब दे रहे थे, जो विधानसभा में विपक्ष के उपनेता भी हैं। सीएम एडापदी ने कहा कि कावेरी विवाद पर उच्चतम न्यायालय के आदेश में केवल इतना कहा गया है कि तमिलनाडु को पानी का हिस्सा अवरुद्ध या पुनः निर्देशित नहीं किया जाएगा।

इससे तमिलनाडु मेकेदातु पर कानूनी लड़ाई में खड़ा हो जाता है। बुधवार को कर्नाटक के प्रतिनिधिमंडल का जावड़ेकर से मिलने का कार्यक्रम है। उन्हें रामनगरा में मेकेदातु बांध के निर्माण के लिए पर्यावरण मंजूरी (ईसी) को संबोधित करने का अनुमान है। इस परियोजना के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) कर्नाटक सरकार द्वारा 2018 में तैयार की गई थी और इसके तुरंत बाद परियोजना को ईसी प्राप्त करने की उम्मीद थी। हालांकि कर्नाटक में गठबंधन सरकार के पतन और कोविड-19 महामारी के बीच यह परियोजना बैकबर्नर्स पर रुक गई।

सांसद तेजस्वी सूर्या ने संसद से किये ये सवाल

विकास के लिए इसराइल ने इन देशों के साथ की संधि

बेंगलुरु दंगे के लिए कर्नाटक के सीएम से मुस्लिम नेताओं ने की ये मांग