पीएम मोदी की वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग, तमिलनाडु सीएम ने केंद्र से माँगा 2000 करोड़ का विशेष अनुदान

नई दिल्ली: देश में जारी कोरोना वायरस महामारी के बीच पीएम नरेंद्र मोदी सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बात कर रहे हैं। बैठक में कोरोना संकट और लॉकडाउन को लेकर चर्चा चल रही है और मुख्यमंत्रियों से सुझाव लिए जा रहे  हैं। इससे पहले प्रधानमंत्री ने 27 अप्रैल को सभी मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा की थी।

बैठक में तमिलनाडु के सीएम पलानीस्वामी ने पीएम मोदी से की NHM फंड्स को जल्द आवंटित करने और तमिलनाडु को 2000 करोड़ का विशेष अनुदान जारी करने करने की मांग की है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जीएसटी की बकाया राशि को भी जल्द जारी कि जाए। वहीं पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि हम एक राज्य के रूप में वायरस से मुकाबला करने का पूरी प्रयास कर रहे हैं। केंद्र को इस महत्वपूर्ण समय में सियासत नहीं करनी चाहिए। हम अंतरराष्ट्रीय सरहदों और अन्य बड़े राज्यों से घिरे हुए हैं। इससे निपटने में हम सभी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। ममता बनर्जी ने आगे कहा कि सभी राज्यों को एक समान अहमियत दी जाना चाहिए और हमें टीम इंडिया के रूप में मिलकर काम करना चाहिए।

इससे पहले अपनी शुरुआती टिप्पणी में पीएम मोदी ने प्रवासी मजदूरों के सम्बन्ध में प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि वे घर जाने की मजदूरों की आवश्यकता को समझते हैं। उन्होंने कहा कि हमारे लिए यह चुनौती है कि कोरोना वायरस को गांवों तक नहीं फैलने दें। मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम  नरेंद्र मोदी की 5वीं वीडियो कांफ्रेंस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी उपस्थित हैं।

एमपी के इस शहर में प्लाज्मा थैरेपी से ठीक हुआ कोरोना का मरीज

सप्ताह के पहले दिन हरे निशान में खुले बाजार, 350 अंक चढ़ा सेंसेक्स

सरकार ने किसानों के खातों में डाले 18 हज़ार करोड़, इस तरह चेक करें अपने अकाउंट का बैलेंस

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -