'मैं यौन उत्पीड़न के कारण मरने वाली अंतिम लड़की होनी चाहिए..', लिखकर नाबालिग ने की ख़ुदकुशी

चेन्नई: तमिलनाडु के करूर में एक 12वीं कक्षा की छात्रा ने यौन उत्पीड़न से तंग आकर शुक्रवार को ख़ुदकुशी कर ली. पीड़िता ने ख़ुदकुशी करने से पहले अपने सुसाइड नोट में लिखा कि 'यौन उत्पीड़न से मरने वाली मैं आखिरी लड़की होनी चाहिए.’ पुलिस ने बताया कि वेंगमेदु की 17 साल की पीड़िता करूर (Karur) के एक निजी स्कूल में पढ़ रही थी. छात्रा शुक्रवार शाम को स्कूल से घर लौटी और उसने अपनी विधवा मां की अनुपस्थिति में फांसी लगाकर ख़ुदकुशी कर ली. वेंगामेदु पुलिस ने बताया कि छात्रा के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए करूर GMCH में रखवा दिया गया है और सुसाइड नोट को जब्त कर केस दर्ज कर लिया गया है.

पुलिस ने बताया कि जांच के दौरान छात्रा द्वारा छोड़ा गया सुसाइड नोट बरामद कर लिया गया है. नोट में लिखा था कि, ‘मैं करूर जिले में यौन उत्पीड़न कि वजह से मरने वाली आखिरी लड़की होनी चाहिए. मुझे यह कहने में डर लगता है कि मेरे इस फैसले की वजह कौन है. मैं इस धरती पर अधिक समय तक रहना चाहती थी और दूसरों की सहायता करना चाहती थी, मगर अब मुझे यह दुनिया छोड़नी है.’ छात्रा ने यह भी लिखा कि वह अपने परिवार से काफी प्यार करती है और उसे इस कदम के लिए उन्हें क्षमा कर दिया जाए. पुलिस ने बताया कि पीड़िता के पिता की तक़रीबन दो वर्ष पहले मौत हो गई थी, जिसके बाद उसके चचेरे भाई और उसकी दादी, उसकी और उसकी विधवा मां की देखभाल  कर रहे थे.

लड़की अपने पिता को खोने के बाद तनाव में थी. वो तब और अधिक परेशान हो गई, जब उसके चचेरे भाई और दादी का भी देहांत हो गया, जिनके साथ उसके गहरे संबंध थे. पुलिस सूत्रों ने बताया कि, ‘अपनों को खोने के बाद लड़की बीते कुछ महीनों से गंभीर मानसिक डिप्रेशन से गुजर रही थी. इसलिए हम फिलहाल यह पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं कि लड़की के यौन उत्पीड़न में किसका हाथ है. हम पड़ोस और उसके स्कूल से भी जानकारी ले कर रहे हैं.’ पुलिस ने बताया कि छात्रा ने अपने सुसाइड नोट में किसी भी अपराधी के नाम का नहीं लिखा है.

'अंकित' बनकर नसीम ने प्रेम जाल में फंसाया, बलात्कार किया, फिर जबरन कलमा भी पढ़वाया

ट्रेन रोककर युवती को उतारा, फिर सामूहिक बलात्कार के बाद कर डाली हत्या

पत्नी हुई गर्भवती तो पति ने कर दी हत्या

 

Most Popular

- Sponsored Advert -