1 जुलाई से कम हो जाएगी इन हैंड सैलरी, बढ़ेंगे काम के घंटे

आने वाले एक जुलाई से देश में कई नियम-कानून बदलने वाले हैं। जी हाँ और ये नियम आपके आर्थिक लेन-देन से होंगे। इसी के साथ इन नियमों के लागू होने के बाद कुछ भार आपकी जेब पर भी पड़ सकता है। आज हम आपको इन्ही के बारे में बताने जा रहे हैं.

इन हैंड सैलरी में कमी- 1 जुलाई से अगर नया लेबर कोड लागू होता है तो कामगारों की इन हैंड सैलरी में भी कमी जा सकती है। नए लेबर कोड के लागू होने के बाद कंपिनयों को अपने कर्मियों की बेसिक सैलरी को बढ़ाकर कम से कम ग्रॉस सैलरी का 50 प्रतिशत करना पड़ेगा। जी हाँ और ऐसा करने से पीएफ और ग्रेच्युटी में कर्मी का योगदान बढ़ जाएगा और उसके सैलरी से इन मदों में अधिक राशि की कटौती होने लगेगी।

रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में बदलाव- एक जुलाई से देश में रसोई गैस के सिलेंडरों की कीमतों में भी बदलाव हो सकता है। जी दरअसल हर महीने की पहली तारीख को तेल विपणन कंपनियां रसोई गैस सिलेंडर की कीमत में बदलाव का फैसला लेती हैं।

दोपहिया वाहनों की कीमतें बढ़ेंगी- 1 जुलाई से देश में दोपहिया वाहनों की कीमतें भी बढ़ जाएंगी। जी दरअसल दोपहिया वाहनों की कीमतों में वृद्धि अलग- अलग मॉडल और बाजार की स्थिति के अनुसार करने की बात कही गयी है।

एयर कंडीशनर्स महंगे- 1 जुलाई से देश में एसी भी महंगे हो जाएंगे। जी दरअसल ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिसिएंसी BEE ने एयर कंडीशनर्स के लिए एनर्जी रेटिंग के नियमों में बदलाव कर दिया है और यह बदलाव 1 जुलाई से ही लागू होने हैं।

बढ़ सकते हैं काम के घंटे- 1 जुलाई से सरकार नया लेबर कोड लागू कर सकती है। जी दरअसल चार नए लेबर कोड लागू होने के बाद कामगारों के लिए काम के घंटे बढ़ सकते हैं, क्योंकि नए लेबर कोड में आठ घंटे की जगह 12 घंटे काम का प्रावधान किया गया है। इसी के साथ कंपनियां अपने कर्मचारियों से आठ घंटे की जगह 12 घंटे काम करने को कह सकती है, पर उन्हें इसके बदले कर्मियों को हफ्ते में तीन दिन छुट्टी देनी होगी।

1 जुलाई से बदलने जा रहे हैं ये 5 नियम, गिफ्ट पर देना होगा TDS

मशहूर रेसलर से शादी करने जा रही है ये अभिनेत्री

16 जुलाई को कर्क राशि में गोचर करेंगे सूर्य देव्, इन 4 राशियों पर पड़ेगा खास प्रभाव

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -