ताज़ा सफ़र मांगती है

िन्दगी रोज़ कोई 
ताज़ा सफ़र मांगती है
और बेचारी थकान शाम को
घर मांगती है

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -