इस्लामिक स्टेट की राजधानी रक्का को सैनिकों ने कराया आज़ाद

इस्लामिक स्टेट समूह के कब्जे वाले रक्का इलाके को अमेरिका समर्थित एक बल ने मुक्त करा लिया है.यह अभियान चार महीने तक चला जिसमें कम से कम 3250 लोग मारे गए, जिनमें से एक तिहाई से अधिक आम नागरिक हैं.

तुर्की की सीमा के नजदीक यूफ्रेटस नदी पर बसा रक्का, ऐसी पहली प्रांतीय राजधानी थी जिस पर मार्च 2013 में विद्रोहियों का कब्जा हुआ. उस वक्त अल कायदा से जुड़े अल नुसरा फ्रंट ने इस पर कब्जा किया था. 2011 में गृहयुद्ध शुरू होने से पहले रक्का में दो लाख 40 हजार लोग रहते थे, लेकिन इनमें से 80 हजार लोग अब दूसरी जगहों पर जा चुके हैं. रक्का शहर आतंकवादी ग्रुप इस्लामिक स्टेट की अघोषित राजधानी थी.चार महीने तक चली इस लड़ाई में रक्का शहर पर नियंत्रण पाने के लिए संघर्ष कर रहे कुर्दिश-अरब सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्स ने शहर में रह रहे सैकड़ों आईएस लड़ाकों को खदेड़ दिया.

सीरियन ऑब्सर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा ‘रक्का में सब कुछ खत्म हो गया है. हमारे सैनिकों ने रक्का पर पूरी तरह कब्जा कर लिया है.’’ एसडीएफ के प्रवक्ता तलाल सेलो ने बताया, ‘‘रक्का में सैन्य अभियान समाप्त हो गया है, लेकिन वहां संभावित किसी भी स्लीपर सेल का पता लगाने और बारूदी सुरंगों को हटाने के लिए अभियान चल रहा है.’’  उन्होंने कहा कि “शहर की आजादी की घोषणा जल्द आधिकारिक बयान जारी करके की जाएगी.”

बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थीयो की संख्या बढ़ी

फीफा अंडर 17 वर्ल्डकप : जर्मनी की क़्वार्टर फाइनल में एंट्री

जॉर्ज सांडर्स को मिला मैन बुकर पुरस्कार

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -