कालाधन: ब्लैकमनी रखने की लिस्ट में इंदौर की नियो कॉर्प कंपनी का खुलासा

Sep 09 2015 09:59 AM
कालाधन: ब्लैकमनी रखने की लिस्ट में इंदौर की नियो कॉर्प कंपनी का खुलासा

नई दिल्ली: स्विट्जरलैंड की गोवेर्मेंट ने ब्लैक मनी रखने वालों में एक भारतीय कंपनी के नाम का खुलासा किया है। यह कंपनी मध्य प्रदेश के इंदौर में है इस कंपनी का नाम नियो कॉर्प इंटरनेशनल है। नियो कॉर्प टेक्सटाइल और पैकेजिंग प्रोडक्ट बनाती है। कंपनी के संबंध में बारे में जानकारी देते हुए बताया गाय है कि भारत सरकार ने इस कंपनी के बारे में सूचना मांगी थी। यह कंपनी इंदौर के पीथमपुर इंडस्ट्रियल एरिया में मौजूद है, इसने 1985 में थैले बनाने से काम शुरू किया था।

आज नियो कॉर्प टेक्सटाइल और पैकेजिंग प्रोडक्ट बनाने का काम करती है। कंपनी का कारोबार अमेरिका, यूरोप समेत 30 से अधिक देशों में फैला हुआ है। कंपनी के प्रमुख सुनील त्रिवेदी हैं, जो मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के सदस्य भी हैं। कंपनी का सालाना टर्नओवर एक हजार करोड़ रुपए से अधिक बताया गया है। नियो कॉर्प की 10 सहयोगी कंपनियां भी हैं। बता दे हाल ही में नियो कॉर्प इंटरनेशनल के खिलाफ फर्जी ऑडिट रिपोर्ट के आधार पर बैंकों से करोड़ों का लोन हासिल करने के मामले में इनकम टैक्स के छापे पड़े थे। इस छापेमार कार्यवाही के दौरान कई कंपनियों का फर्जीवाड़ा उजागर हुआ था।

जांच में पाया गया था कि कंपनी कागजों पर उत्पादन दिखाती रही थी। इसके अलावा कंपनी ने स्थानीय बैंकों से लोन लेकर प्रॉपर्टी खरीदी। जून 2015 में हुई इस कार्रवाई के बाद नियो कॉर्प के एमडी सुनील त्रिवेदी गायब बताए जा रहे हैं। हालांकि उनके बीच-बीच में फोन के जरिए अकाउंटेंट, सीए और वकीलों को फोन पर बातचीत होने की जानकारी भी सामने आई थी। कंपनी पर पड़े इन छापों के बाद बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध नियो कॉर्प इंटरनेशनल का शेयर 10 फीसदी टूट गया था। इस तरह की कई कंपनिया विदेशो में करोडो रूपये जमा करके बैठी है।