MP: स्वच्छता रैंकिंग में सबसे आगे सिंगरौली और छिंदवाड़ा

भोपाल: मध्य प्रदेश की स्वच्छता रैंकिंग में सिंगरौली और छिंदवाड़ा नगर निगम सबसे आगे बताया जा रहा है। जी दरअसल यह रैंकिंग केवल और केवल 10 लाख से कम आबादी वाले शहरों की थी। इस लिस्ट में भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और उज्जैन को शामिल नहीं किया गया। ऐसे में इस रैंकिंग में सिंगरौली को दो और छिंदवाड़ा को एक श्रेणी में सबसे ज्यादा अंक मिले हैं। वहीँ अगर नगर पालिकाओं की बात करें तो पांढुर्ना, पीथमपुर, नरसिंहपुर, खाचरौद काे अलग-अलग श्रेणी में पहला स्थान मिला।

इसी के साथ नगर परिषदों की बात करें तो सैलाना दो और शाहगंज एक श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ रहे हैं। आप सभी को बता दें कि देश के स्वच्छ सर्वेक्षण में बेहतर परिणाम लाने के लिए प्रदेश सरकार ने तीन श्रेणियों में रैंकिंग देने की शुरुआत की है। इन श्रेणियों में फीकल स्लज ट्रीटमेंट प्लांट (एफएसटीपी), मटेरियल रिकवरी फेसिलिटी (एमआरएफ) और कम्पोस्टिंग यूनिट शामिल हैं। ऐसे में हर तीन महीने में निकायों की रैंकिंग की जाएगी। आपको बता दें कि इसमें स्वच्छता के लिए बनाए गए इंफ्रास्ट्रक्चर की जांच कर अंक दिए जाते हैं। बीते गुरूवार को नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने 'स्वच्छता की बुनियाद' अभियान के परिणाम घोषित किए।

इस दौरान मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि ''स्वच्छ सर्वेक्षण के साथ अन्य विकास कार्यों में अच्छी रैंकिंग लाने वाले निकाय के अधिकारियों-कर्मचारियों को प्रमोशन में प्राथमिकता देने पर विचार किया जाएगा। '' इसी के साथ ही यह चेतावनी भी दी कि ''निकाय का काम सिर्फ स्वच्छता ही नहीं है। अन्य कामों पर भी उन्हें ध्यान देना होगा। बेहतर काम नहीं करने वाले निकायों में बदलाव भी किया जाएगा। अब से सिर्फ राज्य स्तर की रैंकिंग दी जाएगी, संभाग स्तर की नहीं।''

सीएम योगी बोले- दुनिया का हिंदू, सिख, बौद्ध और जैन कहां जाएगा, संकट में भारत की तरफ ही देखेगा

रोहिणी कोर्ट में अचानक होने लगी ताबड़तोड़ फायरिंग, गैंगस्टर जीतेंद्र गोगी समेत 4 की मौत

जातिगत जनगणना नहीं कराने के केंद्र के फैसले पर भड़की मायावती, ट्वीट कर साधा निशाना

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -