नहीं मिली छुट्टी तो गैलरी से कूदा डाॅक्टर

Dec 03 2017 12:01 PM
नहीं मिली छुट्टी तो गैलरी से कूदा डाॅक्टर

रांची। हम अपने आसपास मौजूद चिकित्सकों को देखते होंगे। अपने जीवन में सतत अपने मरीजों की देखभाल करने और अपने प्रोफेशन में व्यस्त रहने वाले चिकित्सकों को कोई भगवान का ही दूत समझता है तो दूसरी ओर कुछ लोग मानते हैं कि चिकित्सक भी अब रूपयों के फेर में उलझकर रह गए हैं। मगर एक चिकित्सक ने अपने जीवन में तनाव और व्यस्तता अधिक होने के कारण मौत को गले लगा लिया।

जी हां, रांची स्थित रिम्स के चिकित्सक को जब चिकित्सालय से अवकाश नहीं मिला तो उसने इस तरह का कदम उठाया। चिकित्सक की पहचान जन्मेजय महतो 42 वर्ष के तौर पर हुई है। वह बोकारो चास के डुमरदगा गांव का निवासी था। उसे न्यूरो की परेशानी अनुभव हुई। ऐसे में उसे रिम्स के ही न्यूरो वार्ड में भर्ती करवाया गया। उसका उपचार चल रहा था और उसे चिकित्सालय में भर्ती करवाया गया था।

मगर जब डाॅ. अनिल कुमार उसे देखने पहुंचे तो उसने परिजन से और चिकित्सक डाॅ. अनिल कुमार से वार्ड से डिस्चार्ज करने की गुजारिश की। ऐसे में चिकित्सक ने उसे सोमवार को डिस्चार्ज करने की बात कही। मगर ऐसे में वह परेशान हो गया। जिस वार्ड में उसे रखा गया था वहां पत्नी और उसका परिवार भी मौजूद था।

मौका पाकर वह अपनी पत्नी को धक्का देते हुए अचानक गैलरी में पहुंचा। गैलरी में पहुंचकर वह यहां से नीचे कूद गया। जब तक परिजन उसे रोकने के लिए पहुंचते तब तक वह नीचे छलांग लगा चुका था। जन्मेजय बीते 15 दिनों से किए जाने वाले अपने उपचार से परेशान था। उसे सिर में तेज़ ददर्ज हो रहा था और वह भोजन तक नहीं कर पा रहा था। चिकित्सकों ने उसकी जांच की थी और फिर उसे उपचार दिया जा रहा था।

भीषण दुर्घटना में पूरा परिवार ख़त्म

महाकाल की नगरी में ट्रैन हुई बेपटरी

बारात से लौट रही कार का दर्दनाक एक्सीडेंट

नेपाल में बस नदी में कैसे गिरी