नीतीश के DNA में धोखा व अहंकार : मोदी

पटना : PM से DNA वाले बयान को वापस लेने की CM नीतीश कुमार की मांग को पूर्व उपमुख्यमंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने आड़े हाथों लेते हुए बुधवार को कहा कि "नीतीश कुमार मतलब बिहार नहीं है. यह तो बस कांग्रेस की संगत का असर है कि नीतीश खुद को बिहार का पर्याय बताकर 11 करोड़ बिहारियों का अपमान कर रहे हैं.

इंदिरा को भुगतने पड़े थे परिणाम

मोदी ने कहा कि आपातकाल के समय इंदिरा गांधी भी खुद को भारत समझने लगी थीं. इसका अंजाम उन्हें भुगतना पड़ा था. अब जनता नीतीश को भी जल्द ही सबक सिखायेगी. 

नीतीश के DNA में धोखा व अहंकार

उन्होंने कहा कि अतिथियों का सत्कार तो यहाँ के लोगों के DNA में है यहां के लोग तो खुद आधा पेट खाकर भी अतिथि को भरपेट खाना खिलाते हैं, लेकिन नीतीश कुमार ने भाजपा नेताओं को दावत देने के बाद उनके सामने से थाली खींच कर साबित कर दिया था कि उनका DNA अलग है. बिहार के लोगों का DNA तो विश्वास, सद्भाव और अतिथि सत्कार का है, वहीँ नीतीश के DNA में राजनीतिक, धोखा, तिरस्कार और अहंकार है. 

उन्होंने लोहिया के गैरकांग्रेसवाद से लेकर भाजपा और महादलित नेता जीतनराम मांझी तक को धोखा दिया. नीतीश सरकार में वित्त मंत्री रहे सुशील कुमार मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार ने 1994 में लालू प्रसाद को धोखा दिया. भाजपा ने उन्हें दो बार केंद्रीय मंत्री और 3 बार मुख्यमंत्री बनाया. इसके बावजूद नीतीश ने गंठबंधन तोड़ कर भाजपा को धोखा दिया.

3 महीने दूर धोखे का अंत 

उन्होंने कहा कि 2014 में नीतीश कुमार ने जीतनराम मांझी को धोखा देकर उनसे मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली और महादलित नेता का अपमान किया. जॉर्ज फर्नाडीस के आशीर्वाद से नीतीश कुमार ने राजनीतिक ऊंचाई पायी. अब धोखा, तिरस्कार और अहंकार की राजनीति के कालिया नाग का अंत केवल 3 महीने दूर है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -