सुशीलकुमार ने उठाए महिला भेदभाव की औचित्यता पर सवाल

पटना - बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से धर्म और जाति के आधार पर महिलाओं से भेदभाव करने पर इसकी औचित्यता पर सवाल उठाए हैं.

इस बारे में सवाल उठाते हुए सुशील कुमार ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही 'मुस्लिम महिला परित्यक्ता योजना' हिंदू और मुसलमान औरतों के बीच भेद भाव क्यों किया जा रहा है? जहां मुस्लिम महिला परित्यक्ता योजना के तहत तलाकशुदा मुस्लिम महिलाओं को बिहार सरकार स्वनियोजन के लिए 10 हजार रुपये की सहायता राशि   दी जा रही है, वहीं हिंदू परित्यक्ता महिलाओं के लिए सरकार की इस तरह की कोई योजना नहीं है.आपने नीतीश कुमार से पूछा किआखिर 'धर्म और जाति के आधार पर महिलाओं के साथ भेदभाव का क्या औचित्य है ?

इस योजना की अतिरिक्त जानकारी देते हुए पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कहा कि तलाकशुदा 12 हजार से अधिक मुस्लिम महिलाओं को स्वनियोजन के लिए राज्य सरकार की ओर से अब तक 15 करोड़ की राशि प्रदान की गई है.इस पर उन्होंने मांग की कि बिहार सरकार को परित्यक्ता हिंदू महिलाओं को भी स्वनियोजन और आर्थिक स्वाबलंबन के लिए सहायता राशि देनी चाहिए. जब सभी वर्ग की महिलाओं की समस्याएं और जरुरतें एक तरह की हैं.तो फिर भेद भाव क्यों? आपने 10 हजार की इस सहायता राशि को भी बढ़ाकर 25 हजार करने की जरूरत बताई.वहीँ ट्रिपल तलाक मुद्दे पर बिहार के मुख्यमंत्री को वोट बैंक की राजनीति से ऊपर उठकर मुस्लिम महिलाओं की लड़ाई लड़ने की सलाह भी दे दी.

रजत जयंती समारोह के बहाने मुलायम ने भेजा लालू-नीतीश को भेजा न्योता

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -