'दो साल तक चुप क्यों रहे', सुशांत केस में खुलासा करने वाले पर भड़के फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स

'दो साल तक चुप क्यों रहे', सुशांत केस में खुलासा करने वाले पर भड़के फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स
Share:

'अली बाबा: दास्तान-ए-काबुल' की मुख्य कलाकार तुनिशा शर्मा की आत्महत्या के बाद से टीवी जगत में शोक का माहौल है। हालाँकि इन सभी के बीच बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में एक नया मोड़ आया है। जी हाँ, आप सभी को बता दें कि जिस अस्पताल में सुशांत सिंह राजपूत का पोस्टमॉर्टम हुआ था, उस अस्पताल के कर्मचारी ने अभिनेता की मौत को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया था। जी दरअसल बीते दिनों कूपर अस्पताल के मॉर्च्युरी कर्मचारी रूपकुमार शाह का दावा है कि सुशांत ने आत्महत्या नहीं की थी, बल्कि उनकी हत्या हुई थी। हालाँकि रूपकुमार शाह के इस दावे के बाद तमाम फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स ने साजिश रचने वालों पर नाराजगी जताई।

भारतीय बाजार में जल्द उपलब्ध होगी नेजल वैक्सीन, हुआ कीमतों का खुलासा !

जी दरअसल उनका कहना है कि अगर अस्पताल के कर्मचारी इतने जानकार हैं तो डॉक्टर और उनकी डिग्री किस काम की है? आपको बता दें कि अभिनेता की मौत के दो साल बीतने के बाद रूपकुमार शाह ने दावा किया कि सुशांत सिंह राजपूत के शरीर और गर्दन पर कई निशान मौजूद थे। केवल यही नहीं बल्कि रूपकुमार शाह का कहना है कि जब अभिनेता के शव को अस्पताल लाया गया था, तब वह ड्यूटी पर मौजूद था। उन्होंने जब बॉडी को देखा तो उनकी गर्दन पर हैंगिंग का निशान दिखा था, लेकिन वह आत्महत्या जैसा नहीं लग रहा था। रूपकुमार ने खुलासा किया कि सुशांत की गर्दन पर एक ऐसा मार्क था, जैसे खींचने के बाद तड़पते शख्स की गर्दन पर बनता है। इसके अलावा पैर, हाथ और शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर कई तरह के निशान दिखाई दिए थे।

केवल यही नहीं बल्कि मॉर्च्युरी कर्मचारी का दावा है कि अभिनेता को मारने का तरीका एकदम अलग था। उन्हें वह निशान फ्रैक्चर की तरह लग रहा था। अब कर्मचारी के इन दावों के बीच फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स का कहना है कि दो साल बाद कर्मचारी हत्या का मामला होने का दावा कर रहा है। अभी तक वह कहां थे? उन्होंने इससे पहले क्यों नहीं बताया? दो साल तक चुप क्यों रहे? इसके अलावा डॉक्टर ने यह भी कहा कि वह कोई विशेषज्ञ नहीं है। शरीर की पूरी तरह जांच से पहले फॉरेंसिक डॉक्टर भी स्पष्ट रूप से यह नहीं कह सकता कि वह एक अंदरूनी चोट थी या फिर नहीं।

'कर्नाटक के कब्जे वाले क्षेत्र को करें केंद्र शासित प्रदेश घोषित', उद्धव ने की मांग

इसके अलावा डॉक्टर ने आगे कहा कि सभी चीजें वैज्ञानिक आधार पर तय होती हैं। कर्मचारी को सभी बातें साबित करने के लिए कुछ सबूत देने होंगे, जिससे यह साबित हो सके कि वह जो कह रहा है, वही सच है। कर्मचारी को जांच एजेंसियों से इस बारे में जिक्र करना चाहिए था। इस संबंध में अगर मॉर्च्युरी कर्मचारी के पास किसी भी तरह की तस्वीर या रिकॉर्डेड वीडियो है तो वह इसे जांच एजेंसी को सौंप सकता है। वहीं, जांच एजेंसी के दूसरे एक्सपर्ट्स के साथ मिलकर मामले की पुष्टि की जा सकती है। इसके अलावा इस मामले को लेकर दूसरे फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह एक तरह का सुराग हो सकता है, लेकिन यह सबूत नहीं हो सकता है। जो भी व्यक्ति इस तरह का दावा कर रहा है, बाकी एक्सपर्ट्स द्वारा उसका मूल्यांकन किया जाना चाहिए। इससे यह पता लगाया जा सकेगा कि वह कर्मचारी जो कुछ भी कह रहा है, वह उसको समझ आता है या फिर नहीं।

इसके अलावा एक अन्य विशेषज्ञ ने कहा कि अगर मॉर्च्युरी का कर्मचारी हत्या और आत्महत्या की पहचान कर सकता है तो डॉक्टरों और उनकी डिग्री का क्या मतलब बनता है? इसके अलावा उन्होंने कहा कि, 'दो साल बाद डॉक्टरों को गलत दिखाना सही नहीं है। इस तरह की चीजों को रोकने की जरूरत है।'

झूलन गोस्वामी बनीं अनुष्का शर्मा, शूटिंग पूरी होते ही साथ काटा केक

ओडिशा के होटल में रूसी सांसद पावेल एंटोव की संदिग्ध मौत, की थी पुतिन की आलोचना

बॉयफ्रेंड से चिपकी नजर आईं रकुल प्रीत सिंह, ट्रोलर्स ने लगा दी क्लास

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -