भीमा कोरेगांव हिंसा के आरोपी महेश राउत को सुप्रीम कोर्ट ने दी 2 सप्ताह की अंतरिम जमानत

भीमा कोरेगांव हिंसा के आरोपी महेश राउत को सुप्रीम कोर्ट ने दी 2 सप्ताह की अंतरिम जमानत
Share:

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज शुक्रवार को 2018 भीमा कोरेगांव हिंसा के आरोपी महेश राउत को अपनी दिवंगत दादी के अनुष्ठान में शामिल होने के लिए दो सप्ताह की अंतरिम जमानत प्रदान की और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को निचली अदालत के समक्ष कड़ी जमानत शर्तें मांगने की अनुमति दी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वह अपनी स्वतंत्रता का दुरुपयोग नहीं कर सके।

न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति एसवीएन भट्टी की अवकाश पीठ ने जमानत की प्रक्रिया 26 जून से शुरू करने का निर्देश दिया क्योंकि जून के अंत और जुलाई के पहले सप्ताह में दो रस्में होनी थीं। राउत को 10 जुलाई को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा गया। राउत की ओर से दायर एक अर्जी पर सुनवाई करते हुए शीर्ष अदालत ने कहा, "मामले के तथ्यों और परिस्थितियों, आवेदक द्वारा जेल में बिताई गई अवधि और किए गए अनुरोध की प्रकृति को ध्यान में रखते हुए, हम 26 जून से शुरू होकर 10 जुलाई को समाप्त होने वाली दो सप्ताह की अंतरिम जमानत देने के लिए तैयार हैं।" पीठ ने कहा कि उनकी रिहाई की शर्तें ट्रायल कोर्ट द्वारा निर्धारित की जाएंगी। 

राउत ने मुंबई स्थित एनआईए की विशेष अदालत द्वारा 5 जून को पारित आदेश के खिलाफ शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था, जिसमें अंतरिम जमानत देने से इनकार करते हुए कहा गया था कि मामले की शीर्ष अदालत समीक्षा कर रही है। राउत की ओर से उपस्थित अधिवक्ता अपर्णा भट्ट ने दलील दी कि आवेदक की दादी का 26 मई को निधन हो गया था और दो समारोह आयोजित किए जाने हैं - एक 29 और 30 जून को तथा दूसरा 5 और 6 जुलाई को। राउत की ओर से दायर आवेदन में कहा गया है, "इस कठिन समय में यदि आवेदक को उनकी (दादी की) शोक रस्मों में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाती है, तो इससे उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर गंभीर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।" एनआईए की ओर से अधिवक्ता अन्नम वेंकटेश ने अदालत को बताया कि राउत के खिलाफ आरोप गंभीर हैं। सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने एनआईए से कहा, "आपकी याचिका पर इस अदालत द्वारा दिए गए स्थगन के कारण, क्या आप किसी उच्च न्यायालय या निचली अदालत से आदेश पारित करने की उम्मीद कर रहे हैं? यह अदालत उन्हें फटकार लगाएगी। उन्होंने सही तरीके से इस अदालत का दरवाजा खटखटाया है।" 

वेंकटेश ने तर्क दिया कि चूंकि अनुष्ठान 6 जुलाई तक समाप्त हो जाएंगे, इसलिए उन्हें दो सप्ताह तक जमानत नहीं दी जानी चाहिए, जैसा कि उनके आवेदन में अनुरोध किया गया था।  पीठ ने टिप्पणी की, "हम इस आदेश को पारित करके प्रतिस्पर्धी चिंताओं को संतुलित कर रहे हैं। आप (एनआईए) ट्रायल कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं और आवेदक को दी गई स्वतंत्रता का दुरुपयोग न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए शर्तों पर जोर दे सकते हैं।" अपने आदेश में पीठ ने चिंता का समाधान करते हुए कहा, "एनआईए को ट्रायल कोर्ट से ऐसी कठोर शर्तें लगाने का अनुरोध करने की स्वतंत्रता होगी, जो आवश्यक हों।" अदालत ने स्पष्ट किया कि आवेदक को 10 जुलाई को आत्मसमर्पण करना चाहिए। सामाजिक कार्यकर्ता राउत को 1 जनवरी 2018 को महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा के सिलसिले में जून 2018 में गिरफ्तार किया गया था, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। 

एनआईए ने उन पर गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत आरोप लगाए हैं और आरोप लगाया है कि राउत प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन - भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के इशारे पर भड़काई गई हिंसा से जुड़े लोगों में से एक है। पिछले साल 21 सितंबर को बॉम्बे हाई कोर्ट ने उन्हें ज़मानत दे दी थी, लेकिन एनआईए की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने ज़मानत आदेश पर रोक बढ़ा दी थी। राउत फिलहाल महाराष्ट्र की तलोजा जेल में बंद हैं। 

दो दिवसीय दौरे पर भारत पहुंची बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, पीएम मोदी और राष्ट्रपति मुर्मू से करेंगी द्विपक्षीय चर्चा

महाराष्ट्र में 6 वर्षीय मासूम की रेप के बाद हत्या, पुलिस ने आरोपी सुभाष भील को किया गिरफ्तार

दिल्ली ही नहीं आंध्र में भी है एक 'शीशमहल' ! सामने आया जगन रेड्डी पैलेस का ड्रोन Video

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -