सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाएं घर-घर में खुशहाली लाएं

इंदौर: ''सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाएं घर-घर में खुशहाली लाएं'' की अवधारणा के साथ भारत सरकार द्वारा बेटी बचाओ एवं बेटी पढ़ाओ के तहत बालिकाओं की उच्च शिक्षा तथा विवाह हेतु व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए यह योजना शुरू की गई है। जी हाँ, वहीं इस योजना के अन्तर्गत जन्म से लेकर 10 वर्ष की आयु तक की बेटियों का खाता खुलवाया जा सकता है, जमाकर्ता बेटी के नाम से एक ही खाता खोल सकता है। वहीं अगर माता-पिता या संरक्षक को दो बेटियां हैं तो दोनों के लिए अलग-अलग एक खाता खोल सकते हैं, वहीं अगर जुड़वा बेटियां है तो जन्म प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने पर तीसरा खाता भी खोला जा सकता है, यह खाता एक वित्तीय वर्ष में 250 रूपये से शुरू किया जा सकता है।

मिली जानकारी के तहत बच्ची की उम्र 18 वर्ष पूर्ण होने पर सुकन्या समृद्वि खाता में जमा राशि का 50 प्रतिशत राशि निकाला जा सकता है। वहीं बेटी की उम्र 21 वर्ष पूर्ण होने पर खाता परिपक्व होगा, बालिका का विवाह 18 वर्ष के बाद या 21 वर्ष के पहले होता है तो खाता बंद कर दिया जाएगा और ब्याज सहित समस्त रकम दे दी जाएगी। इसी के साथ ही इस योजना से आयकर में छूट का लाभ भी मिलता है और देश के किसी भी हिस्से में स्थानातांरित किया जा सकता है।

वहीं अगर खाता खोलने के लिए जरूरी दस्तावेज के बारे में बात करें तो इस लिस्ट में जन्म प्रमाण पत्र, माता-पिता का फोटो पहचान पत्र, एड्रेस प्रूफ और माता-पिता की फोटो आवश्यक है। आपको बता दें कि खाते मे न्यूनतम 250 रूपये अधिकतम 01 लाख 50 हजार रूपये वार्षिक जमा किया जा सकता है। इसी के साथ इस खाते की अवधि कुल 21 वर्ष है।

ममता बनर्जी को राज्यपाल ने विधानसभा में दिलाई विधायक पद की शपथ

मिजोरम में 24 घंटों में 1,300 से अधिक कोरोना संक्रमित मामले आए सामने

Fact Check: भाजपा की टिकट पर कंगना रनौत लड़ेंगी चुनाव, पार्टी ने मंडी लोकसभा से बनाया उम्मीदवार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -