मरते हुए लड़की की सरकार से विनती जल्द बंद करे कोटा के कोचिंग सेंटर्स

जयपुर: कोटा में सुसाइड करने वाली एक छात्रा ने कोटा में चलाए जा रहे कोचिंग सेटरों की पोल खोल दी है. अपने सुसाइड नोट में गाजियाबाद की रहने वाली 17 वर्षीय कीर्ति त्रिपाठी ने सरकार से कोचिंग सेंटरों को बंद कराने की मांग की है. कीर्ति सोमवार को एक पांच मंजिला इमारत से कूदकर जान दे दी।

सुसाइड नोट में उसने लिखा कि "केवल जेईई मेन्स में खराब मार्क्स ही इसकी वजह नहीं है, मैं तो इससे भी बुरा सोच रही थी। ऐसा इसलिए क्योंकि मैंने खुद से नफरत करना शुरू कर दिया था, यहां तक कि मैं खुद को खत्म कर लेना चाहती थी". कीर्ति को जेईई मेन्स में 144 मार्क्स मिले थे।

27 अप्रैल को घोषित हुए रिजल्ट में कीर्ति ने कट ऑफ से 44 नंबर अधिक हासिल किए. सुसाइड नोट में कीर्ति ने एचआरडी मिनिस्टरी और भारत सरकार से एक अनुरोध किया है. उसने लिखा है कि "जितना जल्दी हो सके कोचिंग को बंद करा दें, क्यों कि यह आपको चूस लेते है।

अपने पांच पेज के सुसाइड नोट में कीर्ति ने लिखा है कि "आय एम सॉरी, मेरा सिर दर्द से फटा जा रहा है, खुद से नफरत करना दर्दनाक है. मेरे करीब रहने वालों में से ज्यादातर लोग कहते हैं कि मैं खुद को नहीं मार सकूंगी और मेरे पास इसके लिए कोई वजह भी नहीं है. लेकिन उन्हें नहीं मालूम कि मेरे अंदर क्या चल रहा है" इस सुसाइट नोट से पता चलता है कि आत्म हत्या की प्लानिंग कीर्ति ने 22 अप्रैल से ही कर रही थी।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -