चीनी का उत्पादन घटा, इतने फीसद आई गिरावट

सितंबर के अंत में भारत में चीनी का उत्पादन गन्ने के कम उत्पादन के कारण चालू व्यापार वर्ष में 20 फीसद घटकर 258.01 लाख टन हो गया. लॉकडाउन की वजह से पिछले दो महीनों के दौरान चीनी की बिक्री में गिरावट आई है. 2018-19 के व्यापार वर्ष की अवधि (अक्टूबर-अप्रैल) में उत्पादन 321.71 लाख टन रहा. वही, इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) ने कहा कि मार्च और अप्रैल में चीनी की बिक्री में 10 लाख टन की गिरावट आई, क्योंकि कोरोना वायरस बीमारी को नियंत्रित करने के लिए देश में तालाबंदी की गई.

Vistara : शारीरिक दूरी को बनाए रखने के लिए कंपनी ने उठाया यह कदम

अपने बयान में ISMA ने एक बयान में कहा, 'देश भर की चीनी मिलों ने 1 अक्टूबर, 2019 और 30 अप्रैल, 2020 के बीच 258.01 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है. यह पिछले साल के समान समय में उत्पादित 321.71 लाख टन से लगभग 63.70 लाख टन कम है.' मौजूदा समय में 90 चीनी मिलें चल रही हैं. वही, ISMA ने कहा, 2019-20 के व्यापार वर्ष (अक्टूबर-सितंबर) में चीनी उत्पादन में 260 लाख टन की गिरावट दर्ज की गई है.

सोने पर भी पड़ी कोरोना की मार, 11 साल के निचले स्तर पर पहुंची गोल्ड की डिमांड

आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश में चीनी का उत्पादन 2019-20 व्यापार वर्ष के पहले सात महीनों के दौरान 116.52 लाख टन रहा, जबकि एक साल पहले की अवधि में यह 112.8 लाख टन था. साथ ही, इस वर्ष संचालित 119 मिलों में से 44 मिलों ने अपने पेराई कार्यों को समाप्त कर दिया है, जबकि 75 मिलें अभी भी चल रही हैं. वही, महाराष्ट्र में अप्रैल तक चीनी का उत्पादन 60.67 लाख टन रहा, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि में यह 107.15 लाख टन था. 

गोल्ड लोन की मांग में हुआ इजाफा, जानें क्यों

90 प्रतिशत तक सस्ती मिलेंगी दवाएं, बस करें इस शासकीय एप का इस्तेमाल

लॉकडाउन में आम आदमी को मिली बड़ी राहत, गैस सिलेंडर के दामों में आई भारी गिरावट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -