महात्मा गाँधी के खिलाफ जाकर यूपी की सीएम ने की थी 'लव मैरिज', बेहद दिलचस्प है किस्सा

लखनऊ: देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की पहली सीएम सुचेता कृपलानी का आज (25 जून) जन्मदिन है। वो उत्तर प्रदेश की कामयाब मुख्यमंत्री साबित हुईं। बंगाली परिवार की सुचेता को जब स्वयं से 20 वर्ष बड़े एक कांग्रेस नेता से प्यार हुआ तथा उन्होंने इस बारे में अपने घरवालों को बताया तो उन्हें अपने घर वालों के जबरदस्त गुस्से का सामना करना पड़ा। स्पष्ट इंकार कर दिया गया कि वो इस शादी के बारे में सोचे भी मत। यहां तक की महात्मा गांधी ने भी उनकी शादी का विरोध किया। वही सुचेता कृपलानी शादी से पहले सुचेता मजूमदार थीं। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में जब वो इतिहास की लेक्चरर बनकर नियुक्त हुईं तो इसी विभाग में काम कर रहे जेबी कृपलानी से उन्हें प्यार हो गया। इस प्यार का रंग इतना गहरा चढ़ा कि उन्होंने कृपलानी से शादी करने का निर्णय लिया। घर में इसका इस कदर विरोध हुआ कि कह दिया गया कि वो यदि शादी करेंगी तो घर से रिश्ता टूट जाएगा। दरअसल परिवार वालों को जेबी कृपलानी की अधिक आयु भी खासी चुभ रही थी।

जेबी कृपलानी स्वतंत्रता की लड़ाई में गांधी के बाद शीर्ष नेताओं में एक थे। वो कांग्रेस अध्यक्ष भी रहे। जब उन्हें सुचेता से इश्क हुआ तो जिसने सुना दंग रह गया कि कृपलानी भी किसी के प्यार में कैद हो सकते हैं। वो भी अपने से 20 वर्ष छोटी महिला के साथ। फिर एक बंगाली और एक सिंधी। इश्क का रंग इतना गहरा कि दोनों को लगा कि अब वे एक-दूसरे के बिना नहीं रह पाएंगे। उन्होंने जब शादी करने का निर्णय लिया तो भूचाल आ गया। दोनों परिवारों ने फैसला सुनाया कि उन्हें ये शादी मंजूर नहीं। यहां तक कि महात्मा गांधी ने बोल दिया कि ये शादी नहीं हो सकती। इश्क का रंग यकायक नहीं चढ़ा था बल्कि आहिस्ता-आहिस्ता गहरा हुआ था। दोनों ने कहीं महसूस किया था कि उन्हें एक दूसरे की आवश्यकता है। इसके साथ ही सुचेता ने अपनी किताब सुचेता एन अनफिनिश्ड ऑटोबॉयोग्राफी में लिखा, गांधी ने उनके विवाह का विरोध किया था, उन्हें लगता था कि पारिवारिक जिम्मेदारियां उन्हें स्वतंत्रता की लड़ाई से विमुख कर देंगी। गांधी ने कृपलानी से कहा, यदि तुम उससे शादी करोगे तो मेरा दायां हाथ तोड़ दोगे। तब सुचेता ने उनसे कहा, वह ऐसा क्यों सोचते हैं बल्कि उन्हें तो ये सोचना चाहिए कि उन्हें आजादी की लड़ाई में एक की बजाय दो कार्यकर्ता मिल जाएंगे। और दोनों ने घरवालों के खिलाफ जाकर प्रेम विवाह किया।

 

वही कृपलानी इस बात से नाखुश तो बहुत थे कि गांधी उनके निजी मामलों में दखल दे रहे हैं मगर इसके बाद भी उन्होंने उनकी बात करीब-करीब मान ही ली। सुचेता भी इस पर सहमत हो गईं। मगर इसके बाद गांधी ने जो कुछ किया, उसने उनके आपस मे शादी करने के विचार को मजबूत कर दिया। सुचेता अपनी बॉयोग्राफी में लिखती हैं, गांधी चाहते थे कि वह किसी और से शादी कर लें। उन्होंने इसके लिए जोर भी डाला। मैने इसे एक सिरे से खारिज कर दिया। मैंने उनसे बोला, जो प्रस्ताव वह दे रहे हैं वो अन्यायपूर्ण भी है और अनैतिक भी।

महिला आयोग के अध्यक्ष पद से शोभा ओझा ने दिया इस्तीफा, शिवराज सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

'कांग्रेस-NCP और शिवसेना का गठबंधन अपवित्र, ये तो टूटना ही था...', उद्धव सरकार पर बरसे पीयूष गोयल

40 दिन बाद जेल से बाहर आईं अभिनेत्री केतकी चितले, किया था शरद पवार पर टिप्पणी करने का 'गंभीर अपराध'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -