भिखारियों जैसी हालत कर देगा ऐसा दान, भूलकर भी ना करे

भिखारियों जैसी हालत कर देगा ऐसा दान, भूलकर भी ना करे
Share:

आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र में दान देना सबसे उत्तम कार्यों में से एक बताया है। दान देने वाला हमेशा खुशहाल रहता है। चाणक्य के मुताबिक, जो मनुष्य दान देता है, उससे दौलत घटती नहीं है बल्कि उल्टा बढ़ जाती है। इसके साथ ही दान करने वाले व्यक्ति को देवी-देवता भी बहुत पसंद करते हैं और अपनी कृपा बरसाए रखते हैं। 

हालांकि, आचार्य चाणक्य ने दान देते वक़्त एक बात अवश्य याद रखने की सलाह दी है। आचार्य चाणक्य के मुताबिक, मनुष्य को यदि दान देना है तो उसे अपनी हैसियत के मुताबिक ही देना चाहिए। चाणक्य के मुताबिक, बिना विचार किए दान देने वाला इंसान फायदे की जगह नुकसान उठा लेता है। 

इसी कारण चाणक्य बोलते हैं कि उतना ही दान मनुष्य को करना चाहिए, जितना दे पाने में वह सक्षम हो। चाणक्य के मुताबिक, इतिहास में कई लोगों के उदाहरण है, जो दान के चक्कर में भिखारियों जैसा जीवन गुजारने पर मजबूर रहे। यदि इंसान बिना अपना हिसाब देखे दान देगा तो उसे भारी हानि भविष्य में झेलना पड़ सकता है।

जून की इस तारीख से पलटेंगे इन 5 राशियों के दिन

क्यों इतनी खास होती है निर्जला एकादशी? जानिए कथा

जानिए निर्जला एकादशी व्रत में कब पीना चाहिए पानी?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -