डब्ल्यूएचओ ने सारे देशो को नए वैरिएंट से निपटने के लिए कहा

जिनेवा: विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि यह स्पष्ट नहीं है कि ओमाइक्रोन कोविड -19 प्रकार अधिक संचरण योग्य है या डेल्टा जैसे अन्य प्रकारों की तुलना में अधिक गंभीर बीमारी का कारण बनता है। डब्ल्यूएचओ ने रविवार को कहा कि यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि ओमाइक्रोन अन्य वेरिएंट की तुलना में एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अधिक आसानी से फैलता है, इस तथ्य के बावजूद कि दक्षिण अफ्रीका में सकारात्मक परीक्षण करने वाले रोगियों की संख्या में वृद्धि हुई है, जहां यह संस्करण शामिल था।

यह भी स्पष्ट नहीं है कि क्या ओमाइक्रोन अधिक गंभीर बीमारी का कारण बनता है, लेकिन प्रारंभिक आंकड़ों से पता चलता है कि दक्षिण अफ्रीका में अस्पताल में भर्ती होने की दर बढ़ रही है, जो प्रभावित व्यक्तियों की कुल संख्या में वृद्धि के कारण हो सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सत्यापित किया कि वर्तमान में इस बात का कोई सबूत नहीं है कि ओमाइक्रोन से जुड़े लक्षण अन्य प्रकारों से जुड़े लक्षणों से भिन्न हैं, क्योंकि ओमाइक्रोन संस्करण की गंभीरता का निर्धारण करने में कई दिनों से लेकर हफ्तों तक का समय लगेगा।

डेल्टा रूप सहित सभी कोविड-19 वैरिएंट, जो वर्तमान में दुनिया भर में व्यापक हैं, गंभीर बीमारी या मृत्यु का कारण बन सकती हैं, विशेष रूप से सबसे कमजोर व्यक्तियों में, इसलिए बचाव हमेशा सबसे महत्वपूर्ण कारक है। हालांकि, प्रारंभिक साक्ष्य बताते हैं कि डब्ल्यूएचओ के अनुसार, ओमाइक्रोन से पुन: संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है, लेकिन डेटा सीमित है। अगले दिनों और हफ्तों में, इसके बारे में और जानकारी उपलब्ध हो जाएगी।

MSP पर दिमाग ठीक करे सरकार.., राकेश टिकैत ने केंद्र को फिर दी वार्निंग

'सबसे शिक्षित राज्य' केरल के 5000 शिक्षकों ने नहीं लगवाई कोरोना वैक्सीन, कारण- धार्मिक

दिल्ली में आज से फिर खुले स्कूल, प्रदूषण के चलते 2 हफ़्तों से थे बंद

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -