मानसून के दौरान इन खाद्य पदार्थों से दूर रहें, नहीं तो आप हो जाएंगे बीमार

मानसून के दौरान इन खाद्य पदार्थों से दूर रहें, नहीं तो आप हो जाएंगे बीमार
Share:

मानसून का मौसम चिलचिलाती गर्मी से राहत तो देता है, लेकिन बारिश की बूंदों और ठंडी हवाओं के साथ-साथ यह स्वास्थ्य संबंधी कई चिंताएँ भी लेकर आता है। इस दौरान सबसे बड़ी चुनौती खाद्य स्वच्छता बनाए रखना है, क्योंकि बढ़ी हुई नमी और नमी बैक्टीरिया और फंगस के पनपने के लिए अनुकूल परिस्थितियाँ बनाती है। मानसून के दौरान स्वस्थ रहने और बीमार पड़ने से बचने के लिए, यह ज़रूरी है कि आप जो खाते हैं, उस पर ध्यान दें। यहाँ इस बरसात के मौसम में किन खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए और किन विकल्पों को अपनाना चाहिए, इस बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है।

मानसून के दौरान कुछ खाद्य पदार्थों से क्यों बचना चाहिए?

मानसून के दौरान नमी से भरा वातावरण रोगाणुओं के लिए आदर्श प्रजनन स्थल बन जाता है। खाद्य जनित बीमारियों को रोकने के लिए इस समय ऐसे खाद्य पदार्थों से विशेष रूप से बचना चाहिए जो दूषित या खराब होने की संभावना रखते हैं। यहाँ कुछ खाद्य पदार्थों की श्रेणियाँ दी गई हैं जिन्हें खाने से बचना सबसे अच्छा है:

मानसून के दौरान किन खाद्य पदार्थों से बचें

पत्तीदार शाक भाजी

पालक, गोभी और सलाद जैसी पत्तेदार सब्जियाँ अक्सर मानसून के दौरान पानी से दूषित हो जाती हैं। ये सब्जियाँ बैक्टीरिया और परजीवियों को पनाह दे सकती हैं, जिससे अगर इन्हें कच्चा खाया जाए या ठीक से धोया न जाए तो जठरांत्र संबंधी संक्रमण हो सकता है।

सड़क का भोजन

मानसून के दौरान स्ट्रीट फ़ूड खाने में लुभावना होने के बावजूद, स्वच्छता मानकों से समझौता करने के कारण यह जोखिम भरा हो सकता है। मौसम के संपर्क में आने और अक्सर गंदी परिस्थितियों में तैयार किए जाने वाले चाट, पकौड़े और समोसे जैसे स्ट्रीट फ़ूड आइटम आसानी से पाचन संबंधी समस्याओं और फ़ूड पॉइज़निंग का कारण बन सकते हैं।

कच्चा सलाद

मानसून के दौरान कच्चे सलाद का सेवन खतरनाक हो सकता है, जब तक कि उन्हें साफ, शुद्ध पानी से अच्छी तरह से धोया न जाए। जलजनित रोगाणुओं से संदूषण का जोखिम अधिक है, जिससे कच्ची सब्जियाँ बीमारी का संभावित स्रोत बन जाती हैं।

तले हुए खाद्य पदार्थ

बरसात के मौसम में तले हुए स्नैक्स जैसे भजिया, वड़े और फ्राइज़ काफ़ी लोकप्रिय हैं, लेकिन इनका सेवन कम मात्रा में करना चाहिए। बढ़ी हुई नमी पाचन को प्रभावित करती है, और तलने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले भारी तेल पाचन तंत्र पर और ज़्यादा बोझ डाल सकते हैं।

समुद्री भोजन

नमी वाली स्थितियों में ताजे समुद्री भोजन में बैक्टीरिया का तेजी से विकास होने की संभावना होती है। खाद्य विषाक्तता और संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए मानसून के दौरान समुद्री भोजन का सेवन करने से बचना उचित है।

डेयरी उत्पादों

दूध, पनीर और दही उच्च आर्द्रता में खराब होने की संभावना है। यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि इन डेयरी उत्पादों को ठीक से संग्रहीत किया जाए और जठरांत्र संबंधी समस्याओं को रोकने के लिए ताजा खाया जाए।

कटे हुए फल

खुले बाज़ारों या सड़क किनारे की दुकानों पर बिकने वाले पहले से कटे या कटे हुए फल स्वच्छतापूर्वक तैयार नहीं किए गए होते हैं। घर पर धोए और छीले जा सकने वाले पूरे फलों का चुनाव करना मानसून के दौरान अधिक सुरक्षित विकल्प है।

मानसून के दौरान आनंद लेने के विकल्प

मानसून के दौरान कुछ खाद्य पदार्थ जोखिम भरे होते हैं, लेकिन इनके कई सुरक्षित और पौष्टिक विकल्प भी हैं। यहाँ कुछ स्वास्थ्यवर्धक विकल्प दिए गए हैं:

पकी हुई सब्जियाँ

अच्छी तरह से पकी हुई सब्ज़ियाँ चुनें क्योंकि पकाने से उनमें मौजूद बैक्टीरिया और परजीवी मर जाते हैं। सुनिश्चित करें कि सब्ज़ियाँ पकाने से पहले अच्छी तरह से धोई गई हों ताकि कोई भी गंदगी या संदूषक निकल जाए।

गरम सूप

ताजी सब्जियों और जड़ी-बूटियों से बने सूप न केवल गर्मी प्रदान करते हैं बल्कि रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाते हैं। ये कच्चे सलाद की तुलना में सुरक्षित होते हैं और मानसून के दौरान पाचन तंत्र के लिए आसान होते हैं।

सूखा नाश्ता

तेल से बने तले हुए खाद्य पदार्थों के बजाय, भुने हुए मेवे, एयर-पॉप्ड पॉपकॉर्न या साबुत अनाज के क्रैकर्स जैसे सूखे स्नैक्स चुनें। ये स्नैक्स पेट के लिए हल्के होते हैं और इनमें वसा कम होती है।

हर्बल चाय

अदरक, तुलसी या लेमनग्रास से बनी हर्बल चाय में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो संक्रमण से बचाव में मदद कर सकते हैं। वे पाचन में भी सहायता करते हैं और बरसात के दिनों में आरामदेह पेय प्रदान करते हैं।

ताज़ा पकाया हुआ भोजन

मानसून के दौरान अच्छी सेहत बनाए रखने के लिए घर पर बना ताजा खाना सबसे अच्छा विकल्प है। घर पर खाना पकाने से आप स्वच्छता मानकों को नियंत्रित कर सकते हैं और खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं।

मानसून के दौरान स्वच्छता बनाए रखने के सुझाव

मानसून के मौसम में बीमारियों से बचने के लिए खाने-पीने के विकल्पों के बारे में सावधान रहने के अलावा, अच्छी स्वच्छता की आदतें अपनाना भी ज़रूरी है। यहाँ कुछ व्यावहारिक सुझाव दिए गए हैं:

बार-बार हाथ धोएं

भोजन करने या भोजन को छूने से पहले नियमित रूप से साबुन और पानी से हाथ धोने से आपके मुंह में कीटाणुओं के स्थानांतरित होने का खतरा कम हो जाता है।

शुद्ध पानी पियें

सुनिश्चित करें कि आप जो पानी पीते हैं वह शुद्ध और सुरक्षित है। पानी को उबालने या वॉटर प्यूरीफायर का उपयोग करने से दूषित पानी से होने वाली जलजनित बीमारियों को खत्म करने में मदद मिल सकती है।

ताजा सामग्री का उपयोग करें

खाना बनाते समय हमेशा ताज़ी और अच्छी तरह से धुली हुई सामग्री का इस्तेमाल करें। बचा हुआ खाना या लंबे समय से रखी हुई सामग्री का इस्तेमाल करने से बचें, क्योंकि हो सकता है कि उनकी ताज़गी और पोषण मूल्य खत्म हो गए हों।

भोजन को उचित तरीके से संग्रहित करें

मानसून के दौरान खराब होने वाले खाद्य पदार्थों जैसे कि फल, सब्ज़ियाँ और डेयरी उत्पादों का उचित भंडारण बहुत ज़रूरी है। खराब होने से बचाने के लिए एयरटाइट कंटेनर का इस्तेमाल करें और उन्हें रेफ़्रिजरेटर में रखें। मानसून के दौरान आप क्या खाते हैं और इन खाद्य सावधानियों का पालन करके आप दूषित या असुरक्षित खाद्य पदार्थों के कारण बीमार पड़ने के जोखिम को काफ़ी हद तक कम कर सकते हैं। स्मार्ट खाद्य विकल्प चुनकर और अपने स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती को प्राथमिकता देकर बारिश के मौसम का पूरा मज़ा लें।

इस राशि के लोग आज आर्थिक मामलों में उलझ सकते हैं, जानिए क्या कहता है आपका राशिफल

निजी संबंधों में इन राशियों के जातकों का दिन रहने वाला है, जानिए क्या कहता है आपका राशिफल

आर्थिक रूप से इस राशि के जातकों का दिन रहने वाला है, जानिए अपना राशिफल

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -