सीएम जगन मोहन रेड्डी ने बिजली संकट को लेकर प्रधानमंत्री से किया उपचारात्मक उपाय देने का आग्रह

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी ने कोयले की कमी और बिजली वितरण कंपनियों के खराब वित्त पर चिंता व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उपचारात्मक उपाय शुरू करने और दैनिक आधार पर बिजली उत्पादन परिदृश्य की निगरानी करने का आग्रह किया। जगन मोहन रेड्डी ने मोदी से कोयला और रेल मंत्रालय को आंध्र प्रदेश में थर्मल पावर स्टेशनों को 20 कोयला रेक आवंटित करने का निर्देश देने का आग्रह किया।

उन्होंने नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल के समक्ष कार्यवाही की परवाह किए बिना आपातकालीन आधार पर फंसे और गैर-कार्यरत पिट हेड कोयला संयंत्रों को पुनर्जीवित करने की भी मांग की। इससे गैर-पिट हेड कोयला संयंत्रों तक कोयले के परिवहन में कोयला परिवहन समय और मात्रा की सीमाओं की बचत होगी। उन्होंने कहा कि ओएनजीसी और रिलायंस के पास उपलब्ध गहरे पानी के कुएं की गैस की आपूर्ति आपातकालीन आधार पर राज्य में 2,300 मेगावाट के फंसे/गैर-कार्यरत गैस संयंत्रों को की जा सकती है।

जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि आंध्र प्रदेश में कोविड के बाद बिजली की मांग पिछले छह महीनों में 15 प्रतिशत और पिछले एक महीने में 20 प्रतिशत बढ़ी है। उन्होंने कहा कि कोयले की कमी के साथ यह ऊर्जा क्षेत्र को उथल-पुथल में धकेल रहा है। APGENCO के थर्मल पावर जनरेटिंग स्टेशन, जो राज्य की ऊर्जा जरूरतों का 45 प्रतिशत पूरा करते हैं, के पास मुश्किल से एक या दो दिन के लिए कोयले का स्टॉक होता है। उन्होंने कहा, 'यह बेहद खतरनाक स्थिति है और अगर यही स्थिति बनी रही तो बिजली वितरण कंपनियों की वित्तीय स्थिति और खराब हो जाएगी।' उन्होंने यह भी बताया कि कटाई के वर्तमान अंतिम चरण में अधिक पानी की आवश्यकता है। यदि बिजली आपूर्ति ठप हो जाती है तो खेत सूख जाते हैं।

ईरान ने कहा- लेबनान में ईंधन उत्पाद शिपमेंट रखेगा जारी

नदी में पलटी यात्रियों से भरी नाव, 51 शव बरामद, 69 लोग अभी भी लापता

दक्षिण सूडान ने बाढ़ पीड़ितों को 10 मिलियन अमरीकी डालर की राहत सहायता के लिए दी मंज़ूरी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -