घर में स्थापित करने जा रहे हैं श्रीयंत्र तो जरूर ध्यान रखे यह बात

कहते हैं वास्‍तु में श्रीयंत्र को बहुत ही शुभ माना गया है और ऐसा भी माना जाता है कि मां लक्ष्‍मी को श्रीयंत्र सबसे ख़ास और अच्छा लगता है. ऐसे में श्रीयंत्र को घर में स्‍थापित करने से समाज में आपका वर्चस्‍व बढ़ता है और आपके घर में धन और संपन्‍नता आती है. आप सभी को बता दें कि आजकल वास्‍तु के नियमों को मानने वाले इसे गुडलक चार्म के तौर पर भी देखते हैं और श्री का अर्थ है लक्ष्‍मी और यंत्र का अर्थ है उपकरण. ऐसे में कहा जाता है इस यंत्र को मां लक्ष्‍मी का यंत्र के नाम से जाना जाता है. आप सभी को बता दें कि श्रीयंत्र के सबसे ऊपर के स्‍थान यानी चोटी को महत्रिपुर सुंदरी कहा जाता है और इसका अर्थ है सभी देवी और देवताओं का निवास स्‍थान. ज्योतिषों के अनुसार इसकी चोटी पर हिंदू धर्म के सभी देवी और देवताओं का वास माना जाता है और यह भी एक वजह है कि यह मां लक्ष्‍मी को अतिप्रिय है. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि आप इसे घर में कैसे स्थापित कर सकते हैं. आइए जानते हैं.

घर में स्थापित करने के नियम - कहा जाता है अगर कोई मां लक्ष्‍मी को प्रसन्‍न करने के लिए अपने घर में श्रीयंत्र को स्‍थापित करना चाहता है उसे सबसे पहले इसे 24 घंटों तक नमक के पानी में भिगोकर रखना चाहिए. अब उसके बाद इसे बहते पानी से धो लें और उसके बाद इसे घर के मंदिर में स्‍थापित कर लें. कहते हैं श्रीयंत्र एक बहुत ही महत्‍वपूर्ण, लाभकारी और शक्तिशाली यंत्र होता है इस कारण यह ना सिर्फ लाभ देता है बल्कि सभी के घर में सकारात्‍मक ऊर्जा के प्रवाह को बढ़ाने लगता है.

ज्योतिषों के अनुसार अगर आप किसी अपने को दिल से चाहते हैं और उसकी संपन्‍नता के लिए भगवान से प्रार्थना करते हैं तो उसे उपहार के रूप में श्रीयंत्र भी भेंट कर सकते हैं जो बहुत ख़ास माना जाता है. कहते हैं अगर आप उसे श्रीयंत्र देंगे तो वह उस व्‍यक्ति की जिंदगी से जुड़ी समस्‍याओं को हल करने में मददगार साबित होता है और उस स्‍थान की सारी नकारात्‍मक ऊर्जा को भी दूर कर देगा और उसे सुखी और सम्पन्न रखेगा.

यहाँ जानिए आज का पंचांग, राहुकाल और शुभ मुहूर्त

दुनिया के सबसे बड़े आलसी होते हैं इस राशि के लोग

यात्रा पर जाते समय दिख जाए यह दो चीज़ तो समझ जाइए आप होने वाले हैं मालामाल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -