खेलो इंडिया शीतकालीन खेलों की लद्दाख इस महीने करेगा मेजबानी, 1700 खिलाड़ियों के हिस्सा लेने की उम्मीद

Feb 14 2020 02:52 PM
खेलो इंडिया शीतकालीन खेलों की लद्दाख इस महीने करेगा मेजबानी, 1700 खिलाड़ियों के हिस्सा लेने की उम्मीद

खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने गुरुवार को घोषणा कि है की केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख इस महीने पहले खेलो इंडिया शीतकालीन खेलों की मेजबानी करेगा. जबकि मार्च में इस तरह की प्रतियोगिता जम्मू कश्मीर में होगी. खेलो इंडिया शीतकालीन खेलों की दोनों प्रतियोगिताओं का खर्चा खेल मंत्रालय उठाने वाला हैं. पहली प्रतियोगिता लद्दाख में फरवरी के तीसरे हफ्ते जबकि दूसरी प्रतियोगिता जम्मू कश्मीर में मार्च के पहले हफ्ते में होनी हैं. खेलो इंडिया लद्दाख शीतकालीन खेलों में आईस हॉकी चैंपियनशिप, फिगर स्केटिंग और स्पीड स्केटिंग स्पर्धाएं होंगी और इस प्रतियोगिता का आयोजन ब्लाक, जिला और केंद्र शासित स्तर पर किया जाएगा.

इन खेलों में लगभग 1700 खिलाड़ियों के हिस्सा लेने की उम्मीद की जा रही है. खेलो इंडिया जम्मू कश्मीर शीतकालीन खेल गुलमर्ग के कोंगडोरी में लड़के और लड़कियों के लिए चार आयु वर्ग में होंगे. इन खेलों में 19 से 21, 17 से 18, 15 से 16 और 13 से 14 साल के आयु वर्ग के खिलाड़ी अल्पाइन स्कीइंग, क्रास कंट्री स्कीइंग, स्नो बोर्डिंग और स्नोशूइंग स्पर्धाओं में हिस्सा लेंगे. जम्मू कश्मीर खेल परिषद और जम्मू कश्मीर शीतकालीन खेल संघ द्वारा आयोजित इन खेलों में विभिन्न राज्यों और संगठनों की 15 टीमों के लगभग 841 खिलाड़ियों और अधिकारियों के हिस्सा लेने की उम्मीद है. इस मौके पर रीजीजू ने कहा कि युवाओं की उर्जा को सही स्थान पर लगाने के लिए खेलों से अच्छा कोई विकल्प नहीं है. हमने आईस हाकी, फिगर स्केटिंग, स्पीड स्केटिंग जैसे खेलों को शामिल किया है जो ओलंपिक का हिस्सा हैं.

वक्त के साथ हम इन खेलों में चैंपियन तैयार करने में सफल रहेंगे. उन्होंने कहा कि मुझे एक और खेलो इंडिया खेलों को शुरू करने की घोषणा करने की खुशी है. यह एक साल में तीसरे खेलो इंडिया खेल होंगे और हमने स्वदेशी खेलों के लिए भी एक प्रतियोगिता के आयोजन की योजना बनाई है.

खेलो इंडिया में पहली बार यूनिवर्सिटी गेम्स को शामिल किया, 21 फरवरी से भुवनेश्वर में

डिजोन को पीएसजी ने 6-1 से हराया, फ्रेंच कप के सेमीफाइनल में पहुंचा

ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज माइकल क्लार्क़ ने अपनी पत्नी से लिया तलाक़, देने होंगे इतने करोड़