फ्लैट्स बनाते वक़्त इन बातो का रखे विशेष ख्याल

फ्लैट्स बनाते समय कई बार वास्तु के नियमो  की अनदेखी हो जाती है जिसका सीधा असर उस पर्टिकुलर फ्लैट में रहने वाले परिवार पर दिखाई देता है. ऎसी स्थिति से बचने के लिए आपको दिशा सहित कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए जो इस प्रकार हैं:

1-यदि वाटर टैंक अंडरग्राउंड है तो उसकी दिशा नॉर्थ-ईस्ट हो और यदि यह छत पर रखा गया हो तो साउथ-वेस्ट हो.
 
2-सिर्फ फ्लैट के मुख्य दरवाजे की दिशा ही नहीं, बल्कि बिल्डिंग के मेन एंट्रेस की दिशा भी अहम है. यह ईस्ट या नॉर्थ होनी चाहिए.

3-जिन अपार्टमेंट्स में एक फ्लोर पर एक फ्लैट के दरवाजे किसी दूसरे फ्लैट के दरवाजे के सामने खुलते हों, वे भी वास्तु के लिहाज से उपयुक्त नहीं है.

4-छत की ऊंचाई कम से कम 10 फीट अवश्य हो. भारतीय मौसम की परिस्थितियों के अनुसार यह ऊंचाई आवश्यक है.

5-लिफ्ट या सीढियों से फ्लैट के दरवाजे का रास्ता निर्बाध हो.

पानी की सुराही से नहीं रहती कभी धन की...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -