पठानकोट हमले को लेकर एसपी की भूमिका पर लगे सवालिया निशान

Jan 05 2016 10:45 AM
पठानकोट हमले को लेकर एसपी की भूमिका पर लगे सवालिया निशान

पठानकोट : पठानकोट में वायुसेना के एयरबेस स्टेशन पर आतंकियों का हमला होने के बाद वायुसेना ने आॅपरेशन को अंजाम दिया। अब वायुसेना, सेना, गरूड़़ कमांडो, एनएसजी और पंजाब पुलिस का संयुक्त अभियान समाप्त हो गया है। अभियान के दौरान सुरक्षाबलों ने 4 आतंकियों के बाद 2 अन्य आतंकियों को मार गिराया। कार्रवाई तीन दिन तक जारी रही थी। मगर कार्रवाई पूरी हो जाने के बाद अब इस हमले का विश्लेषण प्रारंभ हो गया है।

इस मामले में एनआईए के दल ने गुरदासपुर के पुलिस अधीक्षक सलविंदर सिंह और उनके लिए भोजन बनाने वाले कुक मदन गोपाल से पूछताछ की गई है। दरअसल पंजाब पुलिस के इस अधिकारी की भूमिका पर संदेह व्यक्त किया जा रहा है। दोनों का कहना था कि उन्हें बीते गुरूवार को आतंकवादियों ने अपहृत कर लिया था। इस तरह की घटना के बाद आतंकियों ने पठानकोट वायुसेना के ठिकाने पर हमला कर दिया। 

इस पूरे हमले को लेकर एनआईए द्वारा जांच की जा रही है। गुरदासपुर के पुलिस अधीक्षक सलविंदर सिंह और उनके कुक मदन गोपाल से पूछताछ भी की गई थी। दोनों अधिकारियों ने यह कहा था कि आतंकियों ने उन्हें अपहृत कर लिया था। इस तरह की घटना के दो दिन बाद वही आतंकी पठानकोट में वायुसेना के एयरबेस स्टेशन पर हमला करने पहुंचे।

सलविंदर सिंह द्वारा दावा किया गया कि आतंकवादियों ने उन्हें घने जंगल में फैंक दिया उनकी नीली बत्ती से युक्त एसयूवी कार से आतंकी फरार हो गए। उल्लेखनीय है कि एसपी का यह वाहन वायुसेना के एयरबेस स्टेशन से करीब डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर मिला था। जांचकर्ताओं द्वारा इस मामले में इस बात पर भी ध्यान दिया जा रहा है कि एसपी के वाहन को आतंकियों ने किस तरह से उपयोग किया। जांचकर्ता ने कहा कि एसपी के बयान में बहुत विरोधाभास है।

वे बार - बार अपना बयान बदल रहे हैं। बहरहाल इस मामले की जांच में एनआईए का दल लगा हुआ है। यह भी माना जा रहा है कि मादक पदार्थों की तस्करी करने वालों की सहायता से आतंकी भारत में दाखिल हुए। भारत में पहले ही आतंकियों के लिए गोला - बारूद और असलहे भेजदिए गए जो आतंकियों को एक नियत स्थान पर उपलब्ध हो गए। तस्करों के इस गिरोह से कुछ सुरक्षाकर्मियों के मिले होने को लेकर भी जांच एजेंसी ने संदेह जताया है।