'सोनिया गांधी के दिन ख़त्म, अब ममता बनना चाहती हैं विपक्ष की नेता'

नई दिल्ली: तृणमूल कांग्रेस (TMC) द्वारा संसद के शीतकालीन सत्र से पहले कांग्रेस द्वारा बुलाई गई विपक्षी दलों की बैठक में शामिल न होने पर भाजपा नेता दिलीप घोष की प्रतिक्रिया सामने आई है, जिसके बाद से बवाल खड़ा हो गया है। दिलीप घोष ने कांग्रेस पर तंज करते हुए कहा है कि सोनिया गांधी के दिन अब खत्म हो चुके हैं। उन्होंने यह भी कहा कि ममता बनर्जी अब विपक्ष की नेता बनना चाहती हैं। 

कांग्रेस द्वारा बुलाई गई विपक्षी बैठक में TMC के न जाने पर भाजपा उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि,  'ये नाटक बहुत पुराने हैं, हर दल विपक्षी दलों का नेता बनना चाहता है। ममता बनर्जी भी यही चाहती हैं। सोनिया गांधी के दिन अब खत्म हो चुके हैं।' दरअसल, कांग्रेस सहित 11 विपक्षी दलों के नेताओं ने सोमवार को संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत से पहले बैठक की जिसमें तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने संबंधी विधेयक समेत कई मुद्दों को लेकर रणनीति पर चर्चा की गई थी। सूत्रों के अनुसार, राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के संसद भवन स्थित कक्ष में हुई इस बैठक में विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की कानूनी गारंटी दिए जाने की आवश्यकता पर जोर दिया। इस बैठक में TMC ने हिस्सा नहीं लिया था।

विपक्षी दलों की इस मीटिंग में खड़गे के अलावा राज्यसभा में कांग्रेस के उप नेता आनंद शर्मा, मुख्य सचेतक जयराम रमेश, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी एवं मुख्य सचेतक के. सुरेश ने हिस्सा लिया। इसके अलावा, NCP की सुप्रिया सुले, DMK के तिरुची शिवा, CPIM के इलामारम करीम, RJD के मनोज झा, CPI के विनय विश्वम, नेशनल कांफ्रेंस के हसनैन मसूदी, रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी (RSP) के एनके प्रेमचंद्रन, IUML के ईटी मोहम्मद बशीर और कुछ अन्य नेता विपक्ष की इस बैठक में मौजूद रहे।

वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान के 100 वर्ष हुए पूरे, समरोह में पहुंचकर सीएम योगी ने की इनसे मुलाकात

केरल में राज्यसभा की एक सीट के लिए उपचुनाव

CM योगी ने किया एथनॉल प्लांट का शिलान्यास, किसानों की तरक्की होगी, रोज़गार भी मिलेगा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -