शाकाहारी जानवर होते हैं गेंडे, जानिए अन्य तथ्य

क्या आपने कभी जंगल सफारी की हैं तो वहाँ गेंडा अर्थात राइनो (Rhino) देखने को मिला होगा। ये देखने मेंभले ही अच्छे नहीं दीखते लेकिन इनकी अलग ही खासियत है. विशालकाय शारीर वाला यह जानवर हाथी के बाद दूसरा सबसे बड़ा स्तनपायी जानवर है। बढ़ते शिकार की वजह से इनकी संख्या में भी बहुत कमी आई हैं। इसी लिए आज हम आपको  गेंडे से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों कि जानकारी देने जा रहे हैं जिनके बारे में आप भी नहीं जानते होंगे. 

- भारतीय गेंडे प्रमुख तौर पर आसाम राज्य के काजीरंगा नेशनल पार्क में पाए जाते हैं। भारतीय गेंडों की दो-तिहाई आबादी जो कि लगभग 2400 के आसपास है यहीं पर पाई जाती है।

- आसाम के सिवाए भारतीय गेंडे पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश के कुछ भागों और हिमालय की निचली पहाड़ियों पर भी पाए जाते है।

- भारत के बाहर भारतीय गेंडे पाकिस्तान, बर्मा, नेपाल और चीन के कुछ भागों में भी पाए जाते हैं।

- इंडोनेशिया के जावा द्वीप पर पाए जाने वाले जावन गेंडो की संख्या महज 50 के आसपास बची है। यह प्रजाति देखने में ऐसी लगती है कि इसके शरीक को प्लेटों द्वारा ढक दिया गया है, लेकिन असल में यह त्वचा की परतें हैं।

- सुमात्रन गेंडे इंडोनेशिया के सुमात्रा द्वीप पर पाए जाते हैं। इनकी गिनती भी महज 275 के आसापास बची है।

- गैंडे को अंग्रेज़ी में राइनोसेरोस (Rhinoceros) जा संक्षिप्त रूप में राइनो (Rhino) कहा जाता है।

- गैंडे की ऊँचाई 6 फुट तक हो सकती है और लंबाई 11 फुट तक बढ़ सकती है।

- वज़न के लिहाज़ से गैंडे औसतन 2000 से 2700 किलो तक के हो सकते हैं। भारत में एक गेंडे का वज़न 3800 किलो भी रिकार्ड किया जा चुका है।

- गैंडे की जो पांच प्रजातियां पाई जाती हैं, उनके नाम हैं – (1) सफेद गैंडे (2) काला गेंडा (3) भारतीय गैंडे (4) जावन गेंडा (5) सुमात्रन गेंडा। पहले दो प्रकार के गैंडे अफ्रीका में जबकि बाकी के तीन दक्षिण ऐशिया के देशों में पाए जाते हैं।

- अफ्रीका में पाए जाने वाले सफेद गेंडे पूरी तरह से सफेद नहीं होते, बल्कि इनकी त्वचा का रंग कुछ भूरा सा होता है। काले गेंडो के मुकाबले इनका मुंह ज्यादा चौड़ा होता है।

- हालांकि कि सभी गेंडो की त्वचा मोटी होती है, लेकिन नरम होने के कारण सूर्य की रोशनी से इसे नुकसान पहुँच सकता है। अपनी चमड़ी को सुरक्षित रखने के लिए गेंडे इस पर कीचड़ मल लेते है जिससे सूर्य की तेज़ किरणों के सिवाए यह कीड़ों से भी बचे रहते हैं। कीचड़ में स्नान करने में इन्हें काफ़ी मज़ा भी आता है।

- गेंडे शाकाहारी जानवर हैं और घास, झाड़ियां, पत्ते आदि खाकर अपना गुज़ारा करते हैं।

- गैंडे की थूथन के ऊपर जो सींग होता है, असल में वो सींग नहीं होता। यह हज़ारों मोटे और मज़बूत बालों का गुच्छा होता है। यह उसी पदार्थ कैटरीन से बना होता है जिससे हमारे नाखून बने होते हैं। 

- इस जानवर का सींग अगर एक बार टूट जाए तो दुबारा बढ़ जाता है।

- गैंडे की पांचो प्रजातियों में से भारतीय और जावन गैंडे का एक सींग होता है जबकि सफेद, काले और सुमात्रन गैंडे के दो-दो सींग होते हैं।

- सबसे बड़े सींग की लंबाई 4 फुट 9 इंच तक मापी गई है।

-  यदि शिकारी उसे गोली मार दे तो वह और जानवरों की तरह टांगें फैलाकर नहीं पड़ा रहता। वह सीधा बैठे-बैठे ही मर जाता है, मानो वह सो रहा हो।

- गैंडे 50 से 55 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकते है।

- इस जानवर की आंखो की रौशनी कुछ ख़ास अच्छी नहीं होती, लेकिन इनके पास गज़ब की सूंघने और सुनने की शक्ति होती है।

- गेंडों के झुंड को अंग्रेज़ी में क्रैश (Crash) कहा जाता है।

- 50% नर और 30% मादा गेंडों की मौत लड़ाई की वजह से होती है।

इस एक्ट्रेस को डेट कर चुके हैं विवियन डीसेना, अब बांधना चाहती है राखी

सिर्फ 45 दिन तक ही जी पाती है मधुमक्खियां, जानें तथ्य

3 दिल और नीले खून के साथ जीता ऑक्टोपस, जानिए इसकी अनजानी बातें

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -