गुड़ी पड़वा से जुडी हुई कुछ अद्भुत बाते जिन्हे आप नहीं जानते होंगे

हिन्दू के नववर्ष चैत्र नवरात्री की शुरुआत के साथ ही शुरू हो जाता है दक्षिण भारत में मनाया जाने वाला पर्व उगादी और महाराष्ट्र में मनाया जाने वाला पर्व गुड़ी पड़वा। उगादी और गुडी पड़वा भारत के कई राज्यों में मनाया जाता है। महाराष्ट्र में गुड़ी बनाकर घर के बाहर लगाया जाता है और श्रीखंड और पुरी खाया जाता है जबकि भारत के दक्षिण प्रांत में इस दिन को उगादी के तौर पर मनाया जाता है। लेकिन दोनों प्रांतों में एक समानता यह है कि लोग नीम और गुड़ ज़रूर खाते हैं। क्या आपने यह सोचा है कि यह प्रथा क्यों है? वैसे तो पूर्वजों के समय से नीम-गुड़ खाने की प्रथा चली आ रही है, डॉक्टर भी मानते है कि गुड और नीम खाना सेहत के लिए काफी लाभदायक होता है। इस मौके पर इन क्षेत्र विशेष में भी नीम और शक्कर या गुड़ का प्रसाद मिलता है।

इस पर्व को मानाने के कई मत है इस पर्व के दौरान गुड़ और नीम खुशी और दुख का प्रतीक होता है। लेकिन असल में नीम और गुड़ में बहुत सारे हेल्दी गुण होते हैं जो शरीर में सौदंर्य लाभ पहुंचाने के साथ ही स्वास्थ्य लाभ भी पहुंचाते हैं। नीम के फायदे गर्मी के मौसम के आते ही कई तरह की त्वचा संबंधी रोग होने की आशंका बढ़ जाती है, नीम इसके संभावना को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा नीम में मौजूद एंटी बैक्टिरियल गुण शरीर के इम्यून सिस्टम को दुरस्त रखने के साथ डाइबिटिज के खतरे को टालता है।

साथ ही मौसमी बदलाव के कारण भी इसका महत्व होता है नीम शरीर को गर्मियों में मौसमी बीमारियों से बचाए रखता है, इसके अलावा यह फैट बर्न करने के साथ और चेहरे में मुहांसे और खुजली से निजात दिलाता है। और नीम के पानी से स्नान करने से खुजली और फोडे़ फुंसियों नहीं होती है। और अगर नीम का लेप बालों के जड़ों में लगाया जाए तो ड्रेंडफ की समस्या भी कम हो जाती है। गुड़ तो चीनी का सबसे हेल्दी विकल्प होता है। सिर्फ इस अवसंर पर ही नहीं पूरे साल इसका सेवन करने से स्वास्थ्य को बहुत तरह से लाभ पहुंचता है।

गुड़ खाने से भी इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। गुड़ खाने से एसिडिटी होने की संभावना कम होती है। गुड़ में मिनरल, कार्बोहाइड्रेड और जो पौष्टिक तत्व होते हैं, वे मौसम के बदलने के कारण श्वसन संबंधी कई प्रकार के रोग होते हैं उससे लड़ने में मदद करता है। साथ ही यह संतुलित आहार के वर्ग में आता है। इसलिए गुड़ का सेवन करने से स्वास्थ्य के साथ सौन्दर्य के क्षेत्र में भी बहुत लाभ मिलता है। क्योंकि गुड़ में जो फाइबर होता है वह पेट को साफ रखने में मदद करता है जिससे त्वचा में निखार आता है। अतः नीम और गुड़ खायें और निरोग होने की दिशा में अपना कदम बढ़ायें।

हिन्दू नवरात्र में बंगाली भोजन और रिवाज़ में अंतर क्यों पाया जाता है ? जाने यहाँ

कोरोना वायरस से बचने के लिए अपने घर को ऐसे बनाये बैक्टीरिया फ्री

हिन्दू नववर्ष चैत्र नवरात्र में जरूर करे इन चीजों का सेवन , मिलेगा लाभ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -